देवेन्द्रनाथ ठाकुर

ब्रह्म समाज के संस्थापकों में से एक देवेन्द्रनाथ ठाकुर का जन्म १५ मई, १८१७ को बंगाल में हुआ था। वे प्रसिद्ध दार्शनिक, ब्रह्मसमाजी एवं धर्मसुधारक थे।इनकी शिक्षा-दीक्षा हिंदू कॉलेज में हुई जहाँ संशयवाद का पाठ पढ़ाया जाता था। २२ वर्ष की अल्प अवस्था में ही इन्होंने ‘तत्वबोधिनी सभा’ की स्थापना की। जिसका मुख्य ध्येय था लोगों को ‘ब्राह्मधर्म’ का पाठ पढ़ाना। इस सभा ने मौलिक शास्त्रों को जानने तथा वर्तमान समय तक उनमें किए गए परिवर्तनों के संबध में ज्ञान प्राप्त करने का निश्चय किया। इसने नैतिकता की एक परंपरा बनाई। धीरे धीरे देवेंद्रनाथ की यह सभा लोकप्रिय होने लगी और कुछ प्रभावशाली हिंदू इसके सदस्य बन गए। हर सप्ताह इसकी एक बैठक होती थी जिसमें भगवद्भजन और प्रवचन होते थे।

वर्ष १८४२ में देवेंद्रनाथ ने ब्रह्मसमाज में पदार्पण किया। राजा राममोहन राय के इंग्लैंड चले जाने पर ब्रह्मसमाज शिथिल पड़ने लगा। समाज में प्रति सप्ताह नाना प्रकार के लोग एकत्रित होते थे और भजन प्रवचन सुनकर चले जाते थे। इससे अधिक कुछ नहीं। देवेंद्रनाथ के ब्रह्मसमाज में आ जाने से उसमें नया जीवन आ गया। वर्ष १८४७ में उन्होंने तत्वबोधिनी सभा को एक प्रतिज्ञा से परिचित कराया। इस प्रतिज्ञा में यह कहा जाता था कि ब्रह्मसमाज का प्रत्येक सदस्य बुरे कार्यों से बचा रहेगा, सच्चे हृदय से भगवान की पूजा करेगा और पारिवारिक प्रसन्नता के अवसर पर ब्रह्मसमाज को कुछ भेंट देगा। इस प्रतिज्ञा पर हस्ताक्षर करनेवाले देवेंद्रनाथ प्रथम व्यक्ति थे। ब्रह्मसमाज की बैठकों में अब भी वेदों तथा उपनिषदों का पाठ होता, बँगला में कोई उपदेश होता तथा सब लोग मिलकर कोई ना कोई बँगला मंत्र अथवा भजन गाते। इसी वर्ष देवेंद्रनाथ ने एक मासिक पत्रिका प्रारंभ की जिसे ‘तत्वबोधिनी पत्रिका’ की संज्ञा दी गई। समाज की बैठकों के लिए एक बड़ा सा स्थान उपलब्ध हो गया और उसकी सदस्य संख्या बढ़ने लगी। शीघ्र ही जगह जगह ब्रह्मसमाज की शाखाएँ खुलने लग गईं। कुछ नवयुवकों ने ब्रह्मसमाज में प्रवेश किया। धीरे धीरे सदस्यों का विभिन्न विषयों पर आपस में मतभेद होने लगा। कुछ लोगों का यह कहना था कि वेदों को सही मार्गप्रदर्शक मानने के संबंध में कभी उनका निरीक्षण नहीं किया गया। देवेंद्रनाथ ने यह बात मान ली और वर्ष १८४५ में चार वेदों का अध्ययन कने के लिए तथा प्रत्येक वेद की एक प्रतिलिपि बनाने के लिए बनारस भेजा।

दो वर्ष अध्ययन करने के उपरांत जब ये ब्राह्मण वेदों की प्रतिलिपि लेकर कलकत्ता पहुँचे, इन प्रतिलिपियों का निरीक्षण किया गया। तत्पश्चात् इस संबध में एक लंबा वादविवाद हुआ जिसके अंत में यह निश्चय किया गया कि न वेद और न ही उपनिषद् सही अर्थों में सच्चे पथप्रदर्शक माने जा सकते हैं। इन ग्रंथों के केवल कुछ विचार तथा नीतिवाक्य ही स्वीकार्य हैं। वर्ष १८५० में देवेंद्रनाथ ने ‘ब्रह्मधर्म’ शीर्षक लेख संस्कृत और बँगला में छापा। इस लेख में ‘एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति’ का प्रतिपादन किया गया। यह सारी महिमा उसी ब्रह्म की है। वह अजर, अमर, निर्गुण आदि अनेक गुणों से संपन्न तथा सर्वज्ञ है। केवल उसकी पूजा करने से सांसारिक तथा आध्यात्मिक कुशलता संभव है। उसके प्रति प्रेमसहित आदरभाव होना तथा उसके इच्छानुसार कार्य करना ही ब्रह्म की पूजा है। ‘ब्रह्मधर्म’ में जिस धार्मिक प्रणाली का प्रतिपादन किया गया वह मुख्यत: उपनिषदों पर आधारित थी। उसमें कुछ नए विचार तथा हिंदूधर्म के कुछ लोकप्रिय सिद्धांत भी सम्मिलित कर लिए गए थे।

ब्रह्मसमाज के एक नए सदस्य केशवचंद्र सेन थे। केशव के कुछ अनुयायियों ने ब्रह्मवाद के प्रचार के लिए अपना सारा समय ब्रह्मसमाज को अर्पित कर दिया। ये लोग सारे बंगाल में घूम घूमकर अपना संदेश देने लगे। केशव स्वयं भी इसी संबंध में मद्रास तथा बंबई गए। इन प्रयत्नों का फल यह हुआ कि १८६५ के अंत तक बंगाल, पंजाब, मद्रास तथा पश्चिमोत्तर प्रांत में ब्रह्मसमाज की ५४ शाखाएँ खुल गईं। देवेंद्रनाथ, केशव तथा अन्य नवयुवकों के इस कार्य से बड़े प्रसन्न हुए। पर शीघ्र ही केशवचंद्र सेन के विधवाविवाह तथा अंतर्जातीय विवाह आदि उन्नतिशील विचारों से महर्षि देवेंद्रनाथ असंतुष्ट हो गए। इस प्रकार वर्ष १८६५ में ही ब्रह्मसमाज में फूट पड़ गई और उसमें दो विचारधाराएँ हो गईं।

देवेंद्रनाथ ने केशवचंद्र सेन तथा उनके साथियों को पदच्युत कर दिया। इसपर केशवचंद्र ने ‘भारतीय ब्रह्मसमाज’ की स्थापना की। देवेंद्रनाथ तथा उनके साथियों का समाज अब ‘आदिसमाज’ कहलाने लगा। ‘आदिसमाज’ किसी भी प्रकार के प्रचारकार्य तथा समाजसुधार से दूर ही रहा और एकेश्वरवाद में विश्वास रखता रहा। आदिसमाज की प्रतिष्ठा देवेंद्रनाथ ठाकुर के वैयक्तिक प्रभाव के कारण कुछ समय तक चलती रही। इसके बाद महर्षि देवेंद्रनाथ ने समाज के कार्य को एक प्रबंधक समिति के हाथ में सौंप दिया। कुछ ही समय में आदि ब्रह्मसमाज को लोग भूल गए।

कृतियाँ…

(बांग्ला)

१. बांग्ला भाषाय संस्कृत व्याकरण,
२. ब्रह्मधर्म (प्रथम एवं द्वितीय भाग),
३. आत्मतत्त्वविद्या,
४. ब्रह्मधर्मेर मत ओ विश्वास,
५. पश्चिम प्रदेशेर दुर्भिक्ष उपशमे सहाय्य संग्रहार्थे ब्रह्म समाजेर वक्तृता,
६. ब्रह्मधर्मेर व्याख्यान (भाग १),
७. कलिकाता ब्रह्मसमाजेर वक्तृता,
८. ब्रह्म विवाह प्रणाली,
९. ब्रह्म समाजेर पंचविंशति बत्सरेर परीक्षित वृतान्त,
१०. ब्रह्मधर्मेर अनुष्ठान-पद्धति,
११. भवानीपुर ब्रह्मविद्यालयेर उपदेश,
१२. ब्रह्मधर्मेर व्याख्यान (भाग २)
१३. मासिक ब्रह्मसमाजेर उपदेश,
१४. ब्रह्मधर्मेर ब्याख्यान,
१५. ज्ञान ओ धर्मेर उन्नति,
१६. परलोक ओ मुक्ति,
१७. आत्मजीवनी,
१८. पत्रावली आदि ।

(अंग्रेजी)

1. Vedantic Doctrines Vindicated,
2. Autobiography (Translated from the original Bengali work, Atmajivani, by Satyendranath Tagore)

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

मणिकर्णिका घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...