महाराज प्रतापसिंह ‘ब्रजनिधि’

जयपुर के महाराज प्रतापसिंह ‘ब्रजनिधि’ यानी सवाई प्रताप सिंह जी का जन्म २ दिसम्बर, १७६४ को राजस्थान, जयपुर के पिता महाराज माधोसिंह प्रथम एवं महारानी माजी के यहां हुआ था।

परिचय…

सवाई प्रताप सिंह जी जब मात्र चौदह वर्ष के थे तभी उन्हें सिंहासनारूढ़ होना पड़ा था। युद्धों में अत्यधिक व्यस्त एवं रोगों से ग्रस्त होने पर भी उन्होंने अपने अल्प आयु में ही लगभग १४०० वृत्तों का प्रणयन किया। लोगों द्वारा कहे अनुसार कि महाराज परम भागवत थे। भक्ति-रस-तरंग अथवा मन की उमंग में वे जो पद, रेखते अथवा छंद रचते, उन्हें उसी दिन या अगले दिन अपने इष्टदेव गोविंददेव तथा ठाकुर ब्रजनिधि महाराज को समर्पित करते थे। कम से कम पाँच वृत्त नित्य भेंट करने का उनका अपना नियम था।

रचनाएँ…

सभी रचनाएं तो नहीं लेकिन २२ रचनाएँ आज भी उपलब्ध हैं। परन्तु सोरठ ख्याल, (३६ चरण की एक लघु रचना) उनके किसी पदसंग्रह का ही एक अंश जान पड़ती है। उनके २२ रचनाओं को हम उनके स्वतंत्र अस्तित्व एवं काल क्रम के अनुसार यहां दे रहे हैं…

विरचित- प्रेमप्रकाश, फाग रंग, प्रीतिलता – वर्ष १८४८;

प्रणीत- सुहागरैनि – वर्ष १८४९;

लिखित – विरहसरिता, रेखतासंग्रह, स्नेहबिहार – वर्ष १८५०;

रचित- रमक-जमक-बतीसी, प्रीतिपचीसी, ब्रजशृंगार – वर्ष १८५१;

कृत- सनेहसंग्राम, नीतिमंजरी, शृंगारमंजरी, वैराग्यमंजरी – वर्ष १८५२;

रंगचौपड़ – वर्ष १८५३;

प्रेमपंथ, दुखहरनवेलि, रास का रेखता, श्रीब्रजनिधिमुक्तावली, ब्रजनिधि-पद-संग्रह, तथा हरिपदसंग्रह, इन शीर्षक छह कृतियों का रचनाकाल कविवर महाराज ने नहीं दिया है। लेकिन संख्या इनकी बाईस है अतः इन्हें “ग्रंथबाईसी” कहते थे।

तीनों मंजरियाँ भर्तृहरि के शतकत्रय, क्रमश: “नीतिशतक”, “शृंगारशतक” एवं “वैराग्यशतक” का ब्रजभाषा में पद्यानुवाद हैं। अन्य रचनाओं में राधा-गोविंद तथा ब्रजनिधि की भक्ति, उनका लीलाविहार, विरहव्यथा, उद्धव के प्रति गोपियों की उक्तियाँ, कुब्जा की निंदा, कवि का दैन्य एवं भक्तिसंपृक्त मनोभाव दर्शाए गए हैं। वस्तुत: कृष्ण राधा का वैभवसंपन्न रूप, नीति के पद तथा चौपड़ का खेल, स्नेह संग्राम तथा यत्र तत्र शस्त्रास्त्रों की उपमाएँ जहाँ ब्रजनिधि की राजोचित प्रवृत्तियाँ प्रदर्शित करती हैं, वहाँ कृष्ण के नटवर रूप के प्रति आकर्षण के ब्रजरज, यमुना, गोकुल, मथुरानिवास उनकी अनन्य भक्ति के परिचायक हैं। शांत रस के अतिरिक्त इन रचनाओं में वात्सल्य, शृंगार और हास्य रस के सुंदर उदाहरण मिलते हैं। कवि महाराज ने अधिकतर ब्रजभाषा का प्रयोग किया है किंतु कई एक पद राजस्थानी और पंजाबी में भी हैं।

कविवर महाराज ने अपने काव्य में अपने पूर्ववर्ती एवं समकालिक कवियों के लगभग १०० पदों को भी संगृहीत किए हैं। घनानंद और नागरीदास का इनपर स्पष्ट प्रभाव दिखाई पड़ता है। कई एक कवि आपके आश्रित थे। विश्वेश्वर महाशब्दे, बुधप्रकाश, भारतीय, रसपुंज, रसराज आदि विद्वानों ने आपकी प्रेरणा से संगीत, ज्योतिष, वैद्यक और काव्यग्रंथों का प्रणयन भी किया। फारसी के “आइने अकबरी” और “दीवान-ए-हाफिज” का भी हिंदी अनुवाद हुआ।

संगीत प्रेमी…

कविवर महाराज सवाई प्रताप सिंह जी संगीत प्रेमी थे। उनके उस्ताद थे चाँदखाँ उर्फ दलखाँजी, जो बुधप्रकाश के नाम से प्रसिद्ध हैं। अन्यत्र दोहा, सोरठा, कवित्त, सवैया, कुंडलियाँ, छप्पै, चौपाई, बरवै, रेख़्ता प्रयुक्त हुए हैं। उनके काव्य में अनुप्रास, उपमा, उत्प्रेक्षा, रूपक, श्लेष प्रभृति अलंकार अनायास ही आ गए हैं।

अंत में एक और परिचय…

१ अगस्त, १८०३ को जयपुर के कवि श्रेष्ठ महाराजा का निधन हो गया। वे राजा थे मगर इसके ठीक उलट हिंदी भाषा के प्रकांड विद्वान और कवि तो थे ही साथ ही व्रज, राजस्थानी एवं पंजाबी भाषा के भी कवि थे। उन्होंने जो भी काव्य रचना की उसमें उन्होंने अपना उपनाम ‘ब्रजनिधि’ प्रयुक्त किया है। इनके अलावा प्रताप सिंह ‘ब्रजनिधि’ ने भवन निर्माण के क्षेत्र में भी काफ़ी रुचि दिखा। चंद्रमहल के कई विशाल भवन रिध·सिध पोल, बड़ा दीवानखाना, गोविंद जी के पिछाड़ी का हौज, हवामहल, गोवर्धननाथ, ब्रजराज बिहारी, ठाकुर ब्रजनिधि तथा मदनमोहन जी के मंदिर आपके स्थापत्य कलाप्रेम के द्योतक हैं।

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

मणिकर्णिका घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...