बिनय कुमार सरकार

आज हम बात करने वाले हैं, बंगाली समाजशास्त्र संस्थान, बंगाली एशिया अकादमी, बंगाली दाँते सोसायटी, बंगाली अमेरिकी संस्कृति संस्थान आदि प्रमुख संस्थानों की स्थापना करने वाले समाजविज्ञानी, प्राध्यापक एवं राष्ट्रवादी चिन्तक श्री बिनय कुमार सरकार के बारे में…

परिचय…

बिनय कुमार सरकार का जन्म २६ दिसंबर, १८८७ को बिक्रमपुर में हुआ था, जो अब ढाका में है। उनके पिताजी का नाम सुधन्य कुमार सरकार था। उनकी शुरुवाती शिक्षा मालदह जिला स्कूल से हुई जहां से प्रथम स्थान प्राप्त कर वर्ष १९०५ में वे प्रेसिडेन्सी कालेज में चले आए। छात्रवृत्ति के साथ बीए तथा वर्ष १९०६ में एमए किया। अंग्रेजी और बंगला के अलावा उन्हें छह अन्य भाषाओं का भी ज्ञान था।

कैरियर…

वर्ष १९०७-११ तक बिनय ने बंगीय जातीय शिक्षा-परिषद में अध्यापन के समय मालदह में अनेक विद्यालयों की स्थापना की तथा राष्ट्रीय शिक्षा-बिषय पर अनेकों ग्रंथों की रचना की, साथ ही उन्होने कई यूरोपीय लेखकों के ग्रन्थों का अनुवाद भी किया। वर्ष १९०९ में इलाहाबाद के पाणिनि कार्यालय के गवेषक रहे। वर्ष १९१४ से वर्ष १९२५ तक उन्होने विश्वभ्रमण किया एवं विश्व के विभिन्न विश्वविद्यालयों में अध्यापन कार्य भी किया। वर्ष १९२६-१९४९ तक कलकत्ता विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग के अध्यापक रहे, जहां उन्होने ‘धनविज्ञान परिषद’ की स्थापना की। वहीं से उन्होंने ‘आर्थिक उन्नति’ नामक मासिक पत्रिका का सम्पादन किया। बिनय जी ने अपने जीवन काल में १०० से भी अधिक पुस्तकों की रचना की है। उन्होने बहुत से छात्रों को उच्चशिक्षा प्राप्त करने के लिये विदेश भेजा। स्वाधीन भारत की वाणी के प्रचार के लिये अमेरिका सफर के समय उनका देहान्त हो गया।

रचना संसार…

१. निग्रोजातिर कर्मबीर,
२. बर्तमान जगत् (१३ खण्ड),
३. धनदौलतेर रूपान्तर,
४. चीना सभ्यतार अ आ क ख,
५. Creative India,
६. The Science of History and the Hope of Mankind
७. Love in Hindu Literature
८. Hindu Achievements in Exact Science
९. Political Theories and Institutions of the Hindus
१०. The Futurrism of Young Asia
११. Sociology of Young Asia
१२. Sociology of population
१३. Economic Development
१४. Sociology of Races Cultures and Human progress
१५. Village and Towns as Social Patterns
१६. 1914/1921 The Positive Background of Hindu Sociology
१७. 1916 The beginning of Hindu culture as world-power (A.D. 300-600)
१८. 1916 Chinese Religion Through Hindu Eyes
१९. 1918 Hindu achievements in exact science a study in the history of scientific development
२०. 1919 “Hindu Theory of International Relations” APSR

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

मणिकर्णिका घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...