महाराजा रामेश्वर सिंह ठाकुर

आज पूरे विश्व में विद्वत समाज में से ऐसा कौन होगा जो काशी हिन्दू विश्वविद्यालय को नहीं जानता होगा। इस विश्वविद्यालय ने देश और विदेश को अनगिनत प्रतिभाएं दी हैं। बड़े बड़े साहित्यकार, वैज्ञानिक, राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और भी न जाने कितने क्षेत्रों में कितनी प्रतिभाएं। परन्तु, एक ऐसी बात है, जो ना जाने क्यों पिछले सौ सालों से छुपाया जा रहा है अथवा उसे तरजीह नहीं दिया जा रहा।

इसके लिए हमें श्री तेजकर झा द्वारा लिखित पुस्तक “द इन्सेप्शन ऑफ़ बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी: हू वाज द फाउण्डर इन द लाईट ऑफ़ हिस्टोरिकल डाकुमेंट्स” ​पर एक नजर डालते हैं। तेजकर झा ने अपनी इस पुस्तक के माध्यम से जो साक्ष्य प्रस्तुत किए हैं, उसके अनुसार महाराजा दरभंगा ने अपने जीवनकाल में भारतीय शैक्षणिक जगत में आमूल परिवर्तन लाने के लिए अथक प्रयास किये और दान दिए, जिनमें बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, पटना विश्वविद्यालय, कलकत्ता विश्वविद्यालय, बम्बई विश्वविद्यालय, मद्रास विश्वविद्यालय तथा अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय आदि खास हैं। ​इस पुस्तक में लेखक ने दावा किया है कि बेशक बीएचयू की स्थापना और उसके बाद उसके विकास में मालवीय जी से जुड़े अनेकानेक प्रसंग हैं, जो यह साबित करते हैं कि महामना की इच्छाशक्ति, ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठा और संघर्ष के बीच सृजन के बीज बोने की लालसा ने बीएचयू को उस मुकाम की ओर बढ़ाया, जिसकी वजह से आज यह दुनिया के प्रतिष्ठित संस्थानों में शामिल है, लेकिन इसके प्रतिष्ठान के बनने के पीछे मालवीय जी के अलावा कुछ ऐसी सक्सियतो के नाम दफन हैं, जिन्हें जानना हम सभी को बेहद जरूरी है। महामना के अलावा दो प्रमुख नामों में एक एनी बेसेंट का है और दूसरा अहम नाम दरभंगा के नरेश रामेश्वर सिंह का है। यहां यह महत्वपूर्ण है कि बीएचयू के लिए पहला दान भी इन्होंने ही दिया था। महाराजा रामेश्वर सिंह ने बीएचयू के लिये सबसे पहले पांच लाख रुपए का दान दिया। उसके बाद ही दान का सिलसिला शुरू हुआ था।​ बीएचयू की नींव ४ फरवरी, १९१६ को रखी गयी थी, उसी दिन से सेंट्रल हिंदू कॉलेज मेंं पढ़ाई भी शुरू हो गयी थी। नींव रखने लॉर्ड हार्डिंग्स बनारस आये थे। इस समारोह की अध्यक्षता भी दरभंगा के महाराज रामेश्वर सिंह जी ने ही की थी।

परिचय…

महाराजा रामेश्वर सिंह ठाकुर जी का जन्म महाराजा महेश्वर सिंह जी के छोटे पुत्र के रुप में १६ जनवरी १८६० को बिहार के दरभंगा में हुआ था। वे अपने बड़े भ्राता एवं पूर्ववर्ती महाराजा लक्ष्मीश्वर सिंह जी के मृत्यु के बाद वर्ष १८९८ से जीवनपर्यन्त महाराजा रहे थे। महाराजा बनने से पूर्व वे वर्ष १९७८ में भारतीय सिविल सेवा में भर्ती हुए थे और क्रमशः दरभंगा, छपरा तथा भागलपुर में सहायक मजिस्ट्रेट के पद पर रहे। इतना ही नहीं अपनी काबिलियत के बल पर लेफ्टिनेन्ट गवर्नर की कार्यकारी परिषद में नियुक्त होने वाले वे पहले भारतीय भी थे।

पद…

महाराजा वर्ष १८९९ में भारत के गवर्नर जनरल की भारत परिषद के सदस्य थे और २१ सितंबर १९०४ को एक गैर-सरकारी सदस्य नियुक्त किये गए थें जो बंबई प्रांत के गोपाल कृष्ण गोखले के साथ बंगाल प्रांतों का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। इसके साथ ही वे अन्य कई पदों पर आसीन थे, जिनमें से कुछ निम्न हैं :

१. बिहार लैंडहोल्डर एसोसिएशन के अध्यक्ष
२. ऑल इंडिया लैंडहोल्डर एसोसिएशन के अध्यक्ष
३. भारत धर्म महामंडल के अध्यक्ष
४. राज्य परिषद के सदस्य
५. कलकत्ता में विक्टोरिया मेमोरियल के ट्रस्टी
६. हिंदू विश्वविद्यालय सोसायटी के अध्यक्ष
७. एम.ई.सी. बिहार और उड़ीसा के सदस्य
८. भारतीय पुलिस आयोग के सदस्य

सम्मान…

१. वर्ष १९०० में कैसर-ए-हिंद पदक से सम्मानित किया गया।
२. २६ जून, १९०२ को नाइट कमांडर ऑफ द ऑर्डर ऑफ द इंडियन एंपायर (KCIE) के नाम से जाना गया।
३. वर्ष १९१५ की बर्थडे ऑनर्स लिस्ट में एक नाइट ग्रैंड कमांडर (GCIE) में पदोन्नत किया गया।
४. नाइट ऑफ द ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर का नाइट कमांडर नियुक्त किया गया।
५. वर्ष १९१८ बर्थडे ऑनर्स लिस्ट में सिविल डिवीजन (KBE) में सामिल किया गया।

विशेष…

महाराजा भारत पुलिस आयोग के एकमात्र ऐसे सदस्य थें, जिन्होंने पुलिस सेवा के लिए आवश्यकताओं पर एक रिपोर्ट के साथ असंतोष किया और सुझाव दिया कि भारतीय पुलिस सेवा में भर्ती एक ही परीक्षा के माध्यम से होनी चाहिए। केवल भारत और ब्रिटेन में एक साथ आयोजित किया जाएगा। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि भर्ती रंग या राष्ट्रीयता पर आधारित नहीं होनी चाहिए। इस सुझाव को भारत पुलिस आयोग ने अस्वीकार कर दिया। महाराजा रामेश्वर सिंह एक तांत्रिक थें और उन्हें बौद्ध सिद्ध के रूप में जाना जाता था। वह अपने लोगों द्वारा एक राजर्षि माने जाते थें।

मृत्यु…

०३ जुलाई, १९२९ को उनके स्वर्ग लोक गमन के पश्चात उनके पूत्र सर कामेश्वर सिंह उनके उत्तराधिकारी हुए।

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

स्वामिनारायण अक्षरधाम मन्दिर

विशाल भूभाग में फैला दुनिया का सबसे बड़ा मन्दिर, स्वामिनारायण अक्षरधाम मन्दिर है, जो ज्योतिर्धर भगवान स्वामिनारायण की पुण्य स्मृति में बनवाया गया है।...

रामकटोरा कुण्ड

रामकटोरा कुण्ड काशी के जगतगंज क्षेत्र में सड़क किनारे रामकटोरा कुण्ड स्थित है। इसी कुण्ड के नाम पर ही मोहल्ले का नाम रामकटोरा पड़ा।...

मातृ कुण्ड

मातृ कुण्ड, देवाधि देव महादेव के त्रिशूल पर अवस्थित अति प्राचीन नगरी काशी के लल्लापुरा में पितृकुण्ड के पहले किसी जमाने में स्थित था। विडंबना... विडंबना...