यतीन्द्र मोहन सेनगुप्त

आज हम बात करने वाले हैं, असहयोग आन्दोलन, सविनय अवज्ञा आन्दोलन आदि भारतीय स्वाधीनता संग्राम के प्रमुख नायकों में से एक यतीन्द्र मोहन सेनगुप्त के बारे में, जिन्होंने कामगारों, मजदूरों आदि के हित के लिए सदैव कार्य किया था। यह उनकी तेजाश्वियता थी अथवा उन गरीब मजदूरों का विश्वास कि वे पाँच बार कलकत्ता के मेयर चुने गए। इतना ही नहीं इन्होंने एक अंग्रेज़ युवती नेली से विवाह किया था और उसके मन में भी भारत की आजादी का ऐसा अलख जगाया कि उसने भी अपने पति के देश को ही अपना देश मानकर, उसे स्वाधीन कराने के लिए अपने पति के समान ही जेल की अनगिनत सजाएँ भोगीं। अब विस्तार से…

परिचय…

यतीन्द्र मोहन सेनगुप्त का जन्म २२ फरवरी, १८८५ को चटगांव, (जो अब बांग्लादेश में है) के सुप्रसिद्ध एवं प्रतिष्ठित सेनगुप्ता परिवार में हुआ था। उनके पिता जात्रमोहन सेनगुप्त बड़े लोकप्रिय व्यक्ति तथा बंगाल विधान परिषद के सदस्य थे। यतीन्द्र मोहन बंगाल में शिक्षा पूरी करने के बाद वर्ष १९०४ में इंग्लैंड गए और वर्ष १९०९ में बैरिस्टर बनकर स्वदेश वापस आए। भारत आने से पहले उन्होंने ‘नेल्ली ग्रे’ नाम की एक अंग्रेज़ लड़की से विवाह कर लिया था। समय आने पर श्रीमती नेल्ली सेनगुप्त ने भी भारत के स्वतंत्रता संग्राम में प्रमुखता से भाग लिया। यतीन्द्र मोहन ने अपना व्यावसायिक जीवन एक वकील के रूप में प्रारम्भ किया।

व्यावसायिक जीवन…

यतीन्द्र मोहन ने कोलकाता उच्च न्यायालय में वकालत और रिपन लॉ कॉलेज में अध्यापक के रूप में अपना व्यावसायिक जीवन आरम्भ किया। वर्ष १९११ में वे कांग्रेस में सम्मिलित हुए। वर्ष १९२० में कलकत्ता कांग्रेस में उन्होंने प्रमुखता से भाग लिया। किसानों और मज़दूरों को संगठित करने की ओर उनका ध्यान विशेष रूप से था।

जेल यात्रा…

वर्ष १९२१ में सिलहट के चाय बागानों के मजदूरों के शोषण के विरुद्ध यतीन्द्र मोहन के प्रयत्न से बागानों के साथ-साथ रेलवे और जहाज़ों में भी हड़ताल हो गई थी। इस पर उन्हें गिररफ़्तार करके जेल में डाल दिया गया। स्वराज पार्टी बनने पर यतीन्द्र उसकी ओर से बंगाल विधान परिषद के सदस्य चुने गए। वर्ष १९२५ में उन्होंने कलकत्ता के मेयर का पद सम्भाला। अपने जनहित के कार्यों से वे इतने लोकप्रिय बन गये थे कि उन्हें पांच बार कलकत्ता का मेयर चुना गया। पंडित मोतीलाल नेहरू की अध्यक्षता में हुए वर्ष १९२८ के कलकत्ता अधिवेशन के स्वागताध्यक्ष यतीन्द्र मोहन सेनगुप्त ही थे। रंगून (अब यांगून) में उन्होंने बर्मा (अब म्यांमार) को भारत से अलग करने के सरकारी प्रस्ताव के विरोध में एक भाषण दिया तो राजद्रोह का आरोप लगाकर उन्हें फिर से गिरफ़्तार कर लिया गया।

कांग्रेस अध्यक्ष…

वर्ष १९३० में कांग्रेस को सरकार ने गैर-कानूनी घोषित कर दिया। यतीन्द्र मोहन सेनगुप्त कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष चुने गए। लेकिन सरकार ने उन्हें पहले ही गिरफ्तार कर लिया। उनकी पत्नी नेली सेनगुप्त को भी सहयोग करने के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया गया। वर्ष १९३१ में उनका नाम पुन: अध्यक्ष पद के लिए लिया गया था, किन्तु उन्होंने सरदार पटेल के पक्ष में कराची कांग्रेस की अध्यक्षता से अपना नाम वापस ले लिया। वर्ष १९३१ में वे स्वास्थ्य सुधार के लिए विदेश गए, परंतु वर्ष १९३२ में स्वदेश लौटते ही पुन: गिरफ्तार कर लिये गए।

वर्ष १९३३ में कलकत्ता में कांग्रेस का अधिवेशन प्रस्तावित था, जिसकी अध्यक्षता महामना मदन मोहन मालवीय जी को करनी थी, लेकिन अंग्रेज़ सरकार ने उन्हें मार्ग में ही गिरफ्तार कर लिया और कलकत्ता जाने से रोक दिया। इसके बाद पुलिस के सारे बन्धनों को तोड़ते हुए श्रीमती नेल्ली सेनगुप्त ने इस अधिवेशन की अध्यक्षता की। परन्तु वे अपने भाषण के कुछ शब्द ही बोल पाई थीं कि उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया गया।

निधन…

यतीन्द्र मोहन सेनगुप्त को अस्वस्थ अवस्था में ही जेल में बन्द रखा गया था अतः उनकी हालत बिगड़ती गई और फिर २२ जुलाई, १९३३ को रांची में उनका निधन हो गया। परंतु नेली सेनगुप्त ने अपने पति की लड़ाई को उनके जाने के बाद भी लड़ा। वर्ष १९४० और वर्ष १९४६ में वे निर्विरोध ‘बंगाल असेम्बली’ की सदस्य चुनी गईं। वर्ष १९४७ के बाद वे पूर्वी बंगाल में ही रहीं और वर्ष १९५४ में निर्विरोध पूर्वी पाकिस्तान असेम्बली की सदस्य भी बनीं। उनकी देश सेवा के लिए वर्ष १९७३ में भारत सरकार ने उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया।

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

मणिकर्णिका घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...