मल्हारराव होलकर

मल्हारराव होलकर मराठा साम्राज्य का एक सामन्त थे जो अपनी मेहनत और ईमानदारी के बदौलत मालवा का प्रथम मराठा सूबेदार नियुक्त किए गए और कालांतर में वह होलकर राजवंश के संस्थापक बने, जिसने इन्दौर पर शासन किया। मराठा साम्राज्य को उत्तर की तरफ प्रसारित करने वाले अधिकारियों में उनका नाम अग्रणी है।

परिचय…

मल्हारराव होलकर का जन्म १६ मार्च, १६९३ ( कहीं कहीं १६ अक्तूबर, १६९४ अंकित है )होल गांव के रहने वाले पटेल खंडोजी के यहां हुआ था। उनकी माता का नाम गंगाबाई था। इनके पिता खंडोजी का मुख्य पेशा कृषि था। मल्हारराव की अल्प आयु में ही उनके पिता का देहांत हो गया। इस पर माता गंगाबाई अपने भाई भोजराज बारगल के यहां तालोद चली गईं। भोजराज गांव का जमींदार था। बालक मल्हार मामा के घर उन्मुक्त वातावरण में पलने लगा। हम उम्र के साथियों में उसका प्रभाव जम गया। कुछ समय बाद मामा ने किशोर मल्हार को अपनी सैनिक टुकड़ी में भर्ती कर सिपाही बना लिया।

एक दिन मल्हार ने निजामुल मुल्क के सरदार का अकेले ही सिर काट दिया। इस शौर्य कृत्य ने उनकी ख्याति फैला दी। भोजराज बारगल ने इस प्रसन्नता के क्षणों में उत्साहित होकर अपनी पुत्री गौतमाबाई का विवाह मल्हारराव से कर दिया तथा कदम बांडे से परिचय करा दिया।

मराठा पलटन से होलकर राज्य की स्थापना की शुरुआत…

वर्ष १७२४ में मराठा सरदार कदम बांडे ने अपनी घुड़सवार पलटन के पांच सौ सवारों का नायक मल्हारराव को बना दिया। इस सैनिक टुकड़ी की विशिष्ट पहचान के लिए मल्हारराव ने लाल और सफेद रंगों का तिकोना ध्वज बनाकर लगाया। इससे सरदार कदम बांडे बहुत खुश हुआ। आगे चलकर यही ध्वज होलकर राज्य का शासकीय निशान बना। कदम बांडे ने पेशवाई सेना के हित में कार्य करने की छूट दे दी। पेशवा बाजीराव इनके वीरतापूर्ण कार्यों पर मुग्ध हो गए। मल्हारराव ने अपनी शूरवीरता से नर्मदा नदी के आसपास का क्षेत्र जीत लिया। पेशवा बाजीराव ने प्रसन्न होकर वर्ष १७२८ में इन्हें मालवा के १२ महाल (परगना) पुरस्कार स्वरूप प्रदान किए। होलकर राज्य की स्थापना की शुरुआत यहीं से हुई।

सूबेदारी से इंदौर राज्य की नींव…

पेशवा ने मल्हारराव को मालवा प्रांत की चौथ वसूली का अधिकार भी दे दिया। अपने पराक्रम और सतत परिश्रम से शीघ्र ही मल्हारराव ने मालवा-बुंदेलखंड की सूबेदारी प्राप्त कर ली। पेशवा के पूर्ण सहयोग से इन्होंने मराठा संघ की नींव मजबूत करने के लिए ‘कटक से अटक’ तक का विजय अभियान चलाया। इसके बदले में पेशवा की ओर से साठ लाख आमदनी वाला मालवा प्रदेश मिला। इंदौर राज्य की नींव इसी आधार पर खड़ी हुई। मल्हारराव को उस राज्य का संस्थापक माना जाता है। इनके उपरांत इस वंश में चौदह शासक हुए, जिन्होंने लगभग २२० वर्ष २२ दिनों तक राज्य की बागडोर संभाली।

और अंत में…

वर्ष १७६६ में पेशवा रघुनाथ राव के साथ मिलकर मराठा सरदारों ने धौलपुर-गोहद के राजाओं को घेरने की योजना बनाई। वे सामूहिक रूप से झांसी से प्रस्थान कर आगे बढ़ने लगे। २४ अप्रैल को भांडेर में रुके। यहां से आगे के लिए रवाना हुए, वहीं रास्ते में वृद्ध मल्हारराव का स्वास्थ्य अचानक बिगड़ गया। पिछले समय मांगरोल युद्ध में वे गंभीर रूप से घायल हो गए थे। वही पुराना घाव फिर से तकलीफ देने लगा। इससे उन्हें बेरूवा-खेरा (आलमपुर) में उपचार हेतु रुकना पड़ा। यहीं २० मई, १७६६ को उनका देहांत हो गया।

जिस समय मल्हारराव का आसन्न् काल निकट था। उन्होंने अपने पौत्र को पास में बुलाकर उसका हाथ पेशवा के हाथ में सौंपा, पर पेशवा ने महादजी सिंधिया के हाथ में पकड़ा दिया। सिंधिया ने सेनापति तुकोजीराव होलकर के सुपुर्द कर दिया। इस पर तुकोजीराव ने निवेदन किया कि ‘मैं चाकर आदमी हूं। यह भार आप स्वयं रखें, आप सर्वोपरि हैं। मैं सब तरह से सेवा करने को तैयार हूं।’ इसे सुनकर सूबेदार साहब ने कहा कि ‘मेरे नाम से श्रीमंत पेशवा की चाकरी तुम करते रहो।’ इस अंतिम आदेश वाक्य के उच्चारण के साथ ही उनकी आंखें सदैव के लिए बंद हो गईं।

विशेष…

मल्हारराव की मृत्यु के पश्चात उनके स्वर्गीय पुत्र खंडेराव और अहिल्याबाई होलकर के पुत्र मालेराव २१ वर्ष की आयु में होलकरों की गद्दी पर बैठा। रघुनाथराव ने तत्काल उन्हें खिलअत भेज कर होलकर गद्दी का वारिस मानकर २२ अगस्त, १७६६ को मल्हारराव के सारे अधिकार प्रदान किए। आठ माह बाद ५ अप्रैल, १७६७ को मालेराव की भी मृत्यु हो गई।

सिंहासन खाली तो नहीं रह सकता था, अतः होलकरों के दीवान गंगाधर यशवंत चंद्रचूड़ ने अहिल्याबाई को उत्तराधिकारी हेतु किसी बालक को गोद लेने का सुझाव दिया। अहिल्याबाई को गंगाधर चंद्रचूड़ व राघोबा के षड्‌यंत्र का पता मालेराव के मृत्यु शोककाल में ही चल गया था इसलिए अहिल्याबाई ने मदद के लिए पड़ोसी राज्यों भोसले, गायकवाड़, धवादे व राजपूत राजाओं (जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, कोटा, बूंदी) को मदद देने हेतु संदेशा भेजे और उन्होंने मदद हेतु सेना भी भेजी। तब अहिल्याबाई ने राघोबा को संदेश भेजा कि यदि मैं हार गई तो कोई बात नहीं और यदि जीत गई तो तुम्हें मारे शर्म के मुंह छिपाने को जगह नहीं मिलेगी अतः लड़ाई शुरू करने से पूर्व एक बार अवश्य सोच लें। अहिल्याबाई का पलड़ा भारी देख महादजी सिंधिया व जानोजी भोसले ने भी दीवान चंद्रचूड़ के षड्‌यंत्र में मदद देने को अब मना कर दिया। इसी बीच तुकोजीराव होलकर सेना लेकर क्षिप्रा के पास पहुंच गए। राघोबा को अपनी गलती का अहसास हो गया, और उन्होंने तुकोजीराव को संदेश भेजा कि हम मालेराव की मृत्यु पर शोक प्रकट करने आए हैं, इस प्रकार यह षड्‌यंत्र समाप्त हुआ।

अहिल्याबाई होलकर

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

काशी के घाट भाग – २

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

काशी के घाट भाग – ३

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। जानकारी...

काशी के घाट भाग -४

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। इनकी...