Category: आलेख

रथ यात्रा

जगन्नाथ, सुभद्रा तथा बलराम और रथयात्रा राजा इन्द्रद्युम्न, जो सपरिवार नीलांचल सागर (उड़ीसा) के पास रहते थे, को समुद्र में एक विशालकाय काष्ठ दिखा। राजा के उससे विष्णु मूर्ति का निर्माण कराने का निश्चय...

भिखारी

भोजपुरी का शेक्सपियर कवि गीतकार नाटककार नाट्य निर्देशक लोक संगीतकार अभिनेता अर्थात भिखारी ठाकुर जिनकी मातृभाषा भोजपुरी थी और उन्होंने भोजपुरी को ही अपने काव्य और नाटक की भाषा बनाया। अफसोस १० जुलाई आज पहली बार श्री ठाकुर जी के बारे मे लिखने...

तनाव औऱ विवेकानंद

४ जुलाई एक कालखंड तनाव पर विजय पाना तैराकी सीखने के समान है । पहले तो भयातुर होते हैं, परन्तु जब अधीरता पर नियंत्रण कर लेते हैं तो तैराकी का आनन्द उठाना शुरू...

वनवास यात्रा

वनवास में राम कहां-कहां रहे ? श्रीराम को १४ वर्ष का वनवान हुआ। इस वनवास काल में श्रीराम ने कई ऋषि-मुनियों से शिक्षा और विद्या ग्रहण की, तपस्या की और भारत के आदिवासी,...

पुराण

पुराण, हिंदुओं के धर्मसंबंधी ग्रंथ हैं जिनमें सृष्टि, लय, प्राचीन ऋषियों- मुनियों और राजाओं के वृत्तांत आदि हैं. ये वैदिक काल के काफी बाद के ग्रन्थ हैं, जो स्मृति विभाग में आते...

 बक्सर

कभी बक्सर का इलाका जंगल हुआ करता था । जंगल के बीचोबीच एक सर (तालाब ) था , जहां बाघ पानी पीने आया करते थे । बाघ को संस्कृत में व्याघ्र कहते...

​भारतीय प्राच्यविद्या

भारतीय प्राच्यविद्या को अंधविश्वासों से जोड़ दिया गया, जबकि उसमें गणित, व्याकरण, काव्य, चिकित्सा की अद्भुत दृष्ट‍ियां हैं. आज कोई  हिंदुस्तान की किसी बड़ी अकादमी से पढ़कर निकले और राजशेखर, भरतमुनि, व्यास,...

पापा 

हमे  यह नहीँ पता की पापा कौन है? एक सुधारक एक विचारक या एक फीलोउस्फर. मगर वो पापा है . हमे भर पेट आम खिलाकर कहते कितना कम खाया. पापा हमारे क्या...

Follow us

22,044FansLike
2,506FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Instagram

Most Popular

स्वामिनारायण अक्षरधाम मन्दिर

विशाल भूभाग में फैला दुनिया का सबसे बड़ा मन्दिर, स्वामिनारायण अक्षरधाम मन्दिर है, जो ज्योतिर्धर भगवान स्वामिनारायण की पुण्य स्मृति में बनवाया गया है।...

रामकटोरा कुण्ड

रामकटोरा कुण्ड काशी के जगतगंज क्षेत्र में सड़क किनारे रामकटोरा कुण्ड स्थित है। इसी कुण्ड के नाम पर ही मोहल्ले का नाम रामकटोरा पड़ा।...

मातृ कुण्ड

मातृ कुण्ड, देवाधि देव महादेव के त्रिशूल पर अवस्थित अति प्राचीन नगरी काशी के लल्लापुरा में पितृकुण्ड के पहले किसी जमाने में स्थित था। विडंबना... विडंबना...