अमरनाथ झा

आज हम बात करेंगे मूर्धन्य विद्वान पंडित श्री तीर्थनाथ झा जी के पौत्र व संस्कृत, हिन्दी, मैथिली एवं अंग्रेजी के मूर्धन्य विद्वान एवं शिक्षाशास्त्री गंगानाथ झा जी के पुत्र तथा पद्मभूषण सम्मान से सम्मानित काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के पूर्व उपकुलपति अमरनाथ झा जी के बारे में…

परिचय…

श्री अमरनाथ झा जी का जन्म २५ फरवरी, १८९७ को बिहार के मधुबनी जिला अंतर्गत के एक गाँव में हुआ था। उनके पिता डॉ. गंगानाथ झा जी अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त विद्वान् थे। तथा दादा जी पंडित श्री तीर्थनाथ झा संस्कृत भाषा के मूर्धन्य विद्वान थे अतः अमरनाथ झा की शिक्षा घर से ही शुरु हो गई थी तथा एम.ए. की परीक्षा में वे ‘इलाहाबाद विश्वविद्यालय’ में सर्वप्रथम रहे थे। उनकी योग्यता देखकर एम.ए. पास करने से पहले ही उन्हें ‘प्रांतीय शिक्षा विभाग’ में अध्यापक नियुक्त कर लिया गया था।

प्रमुख तथ्य…

अमरनाथ झा ने वर्ष १९०३ से लेकर १९०६ तक कर्नलगंज स्कूल में पढ़ाई की तथा १९१३ में स्कूल लिविंग परीक्षा में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण और अंग्रेज़ी, संस्कृत एवं हिंदी में विशेष योग्यता प्राप्त की। फिर वर्ष १९१३ से १९१९ तक वे म्योर सेंटर कॉलेज, प्रयाग में शिक्षा ग्रहण करते रहे। इन्हीं दिनों यानी वर्ष १९१५ में इंटरमीडिएट में विश्वविद्यालय में चतुर्थ स्थान प्राप्त किया। फिर वर्ष १९१७ में बीए की परीक्षा एवं वर्ष १९१९ में एम.ए. की परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया। वर्ष १९१७ में म्योर कॉलेज में २० वर्ष की अवस्था में ही अंग्रेज़ी के प्रोफ़ेसर हो गए। वर्ष १९२९ में वे विश्वविद्यालय में अंग्रेज़ी के प्रोफेसर हुए। इस बीच वर्ष १९२१ में प्रयाग म्युनिसिपलिटी के सीनियर वाइस चेयरमैन भी रहे। उसी वर्ष पब्लिक लाइब्रेरी के मंत्री हुए। आप पोएट्री सोसाइटी, लंदन के उपसभापति रहे और रॉयल सोसाइटी ऑफ लिटरेचर के फेलो भी रहे। वर्ष १९३८ से १९४७ तक वे प्रयाग विश्वविद्यालय के उपकुलपति थे। वर्ष १९४८ में अमरनाथ पब्लिक सर्विस कमीशन के चेयरमैन हुए।

उच्च पदों की प्राप्ति…

अमरनाथ झा की नियुक्त वर्ष १९२२ ई. में अंग्रेज़ी अध्यापक के रूप में ‘इलाहाबाद विश्वविद्यालय’ में हुई। यहाँ वे प्रोफेसर और विभागाध्यक्ष रहने के बाद वर्ष १९३८ में विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर बने और वर्ष १९४६ तक इस पद पर बने रहे। उनके कार्यकाल में विश्वविद्यालय ने बहुत उन्नति की और उसकी गणना देश के उच्च कोटि के शिक्षा संस्थानों मे होने लगी। बाद में उन्होंने एक वर्ष ‘काशी हिन्दू विश्वविद्यालय’ के वाइस चांसलर का पदभार सम्भाला तथा उत्तर प्रदेश और बिहार के ‘लोक लेवा आयोग’ के अध्यक्ष भी रहे।

अमरनाथ झा की रचनाएं…

१. वर्ष १९२० में संस्कृत गद्य रत्नाकर
२. वर्ष १९१६ में दशकुमारचरित की संस्कृत टीका
३. वर्ष १९२० में हिंदी साहित्य संग्रह
४. वर्ष १९३५ में पद्म पराग
५. वर्ष १९२९ में शेक्सपियर कॉमेडी
६. वर्ष १९२९ में लिटरेरी स्टोरीज
७. वर्ष १९२४ में हैमलेट
८. वर्ष १९३० में मर्चेंट ऑफ वेनिस
९. वर्ष १९१९ सलेक्शन फ्रॉम लार्ड मार्ले
१०. वर्ष १९५४ विचारधारा
११. हाईस्कूल पोएट्री

अपनी बात…

हिन्दी को राजभाषा बनाने के प्रश्न पर विचार करने के लिए जो आयोग बनाया था, उसके एक सदस्य डॉ. अमरनाथ झा भी थे। वे हिन्दी के समर्थक थे और खिचड़ी भाषा उन्हें स्वीकर नहीं थी। डॉ. अमरनाथ झा ने अनेक अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में भारत का प्रतिनिधित्व भी किया। वे ‘नागरी प्रचारिणी सभा’ के अध्यक्ष रहे तथा हिंदी साहित्य के वृहत इतिहास के प्रधान संपादक थे। विभिन्न रूपों में की गई आपकी सेवाएं चिरस्मरणीय रहेंगी।

पुरस्कार व सम्मान…

डॉ. अमरनाथ झा अनेक भाषाओं के ज्ञाता थे। इलाहाबाद और आगरा विश्वविद्यालयों ने उन्हें एल.एल.ड़ी. की और ‘पटना विश्वविद्यालय’ ने डी.लिट् की उपाधि प्रदान की थी। वर्ष १९५४ में उन्हें ‘पद्मभूषण’ से सम्मानित किया गया।

निधन…

अपने पूर्वजों की कीर्ति पताका को और भी ऊंचाई प्रदान करने तथा देश और समाज के लिए अपना बहुमूल्य योगदान देने वाले झा जी २ सितम्बर, १९५५ को अनंत की खोज में निकल पड़े।

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

स्वामिनारायण अक्षरधाम मन्दिर

विशाल भूभाग में फैला दुनिया का सबसे बड़ा मन्दिर, स्वामिनारायण अक्षरधाम मन्दिर है, जो ज्योतिर्धर भगवान स्वामिनारायण की पुण्य स्मृति में बनवाया गया है।...

रामकटोरा कुण्ड

रामकटोरा कुण्ड काशी के जगतगंज क्षेत्र में सड़क किनारे रामकटोरा कुण्ड स्थित है। इसी कुण्ड के नाम पर ही मोहल्ले का नाम रामकटोरा पड़ा।...

मातृ कुण्ड

मातृ कुण्ड, देवाधि देव महादेव के त्रिशूल पर अवस्थित अति प्राचीन नगरी काशी के लल्लापुरा में पितृकुण्ड के पहले किसी जमाने में स्थित था। विडंबना... विडंबना...