Category: आयोजन

कार्तिक पूर्णिमा

एक समय की बात है, त्रिपुर नामक राक्षस ने एक लाख वर्षों तक प्रयाग में घोर तप किया। इस तप के प्रभाव से समस्त जड़-चेतन, जीव तथा देवता भयभीत हो गए। देवताओं...

भाई दूज

भाई दूज अथवा भैया दूज पर्व को कहीं कहीं भाई टीका भी कहा जाता है। पुराणों आदि में इसे यम द्वितीया, भ्रातृ द्वितीया आदि नामों का उल्लेख है। यह त्योहार कार्तिक मास...

गोवर्घन पूजा

कबीर की वाणी... गोवर्धन कृष्ण जी उठाया, द्रोणागिरि हनुमंत। शेष नाग सब सृष्टी उठाई, इनमें को भगवंत।। यह कबीर साहब की वाणी है, जिसमे सबसे पहले गोवर्धन का नाम आया है। और आज गोवर्धन पूजा भी है,...

नरक चतुर्दशी

दीपावली के ठीक एक दिन पूर्व एवम धनतेरस के दूसरे दिन को नरक चतुर्दशी पड़ता है। जिसे छोटी दीवाली, रूप चौदस और काली चतुर्दशी भी कहा जाता है। मान्यता के अनुसार कार्तिक...

धनतेरस

ॐ धन्वंतरये नमः॥ धनवंतरी भगवान विष्णु के अंश अवतार हैं। उन्हें आयुर्वेद का प्रवर्तक कहा जाता है। इनका पृथ्वी लोक पर अवतरण समुद्र मंथन के समय हुआ था। शरद पूर्णिमा को चंद्रमा, कार्तिक...

अक्षय तृतीया

अक्षय तृतीया विशेष... अक्षय तृतीया वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को कहते हैं। ग्रंथों के अनुसार इस दिन जो भी शुभ कार्य किये जाते हैं, उनका अक्षय फल मिलता है॥इसी...

साहित्यिक आयोजन

एक साहित्यिक सामारोह... और वो भी सम्मान सामारोह। मंच पर सात कुर्सियाँ और उन पर पाँच अधिकारियों का कब्जा। बचे दो जिनमें एक पर संस्था के जिला अध्यक्ष महोदय एवं दूसरे पर प्रमुख अध्यक्ष जी विराजमान...

अखबारों की नजर से

सम्मान अखबारों की नजर से... साहित्य संचय फाऊंडेशन, दिल्ली एवं अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, उत्तरप्रदेश दिनाँक : २३ नवंबर २०१९ स्थान : तुलसी स्मारक भवन, रानी बाग, अयोध्या। विषय : रामकथा में वैश्विक जीवन मूल्य रामकथा...

Follow us

22,044FansLike
2,506FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Instagram

Most Popular

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

मामा जी की स्मृति से

अपने बेटों से परेशान होकर एक महोदय कैंट स्टेशन के एक बैंच पर सोए हुए थे। उन्हें कहीं जाना था, मगर कहां यह उन्हें...