Category: अन्य साहित्यकार

पं. सूर्यनारायण व्यास

महर्षि सान्दीपनी की परम्परा के वाहक पण्डित सूर्यनारायण व्यास जी हिन्दी के व्यंग्यकार, पत्रकार, स्वतंत्रता सेनानी एवं ज्योतिर्विद थे। उन्हें उनके साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में किए गए महानतम कार्यों के...

रवीन्द्र जैन

रामानंद सागर द्वारा निर्देशित एवम निर्मित रामायण के गीत ने इस पौराणिक धारावाहिक को हिट कराने में महती भूमिका निभाई है। जिसकी एक धुन आज भी हमारे कानों में पड़ जाए तो...

गिरीश चंद्र घोष

आज हम बात करेंगे, श्री रामकृष्ण परमहंस के प्रमुख शिष्यों में से एक एवं प्रमुख बंगाली संगीतकार, कवि, नाटककार, उपन्यासकार, नाट्यपरिचालक और नट के बारे में, जिन्होंने ‘ग्रेट नेशनल थिएटर’ की स्थापना...

पंडित नरेंद्र शर्मा

हम सभी यह भली भांति जानते हैं कि बी.आर. चोपड़ा द्वारा निर्मित टीवी धारावाहिक महाभारत की पटकथा राही मासूम रज़ा साहब ने लिखी थी। परंतु वे यह नहीं जानते कि इस पटकथा...

मृणाल पाण्डे

आज हम बात करने वाले हैं, जानी-मानी उपन्यासकार एवं लेखिका शिवानी की छाया स्वरूप पुत्री एवं हिंदी लेखिका, पत्रकार एवं भारतीय टेलीविजन की जानी-मानी हस्ती मृणाल पाण्डे के बारे में... परिचय... मृणाल पाण्डे का...

सोहन लाल द्विवेदी

न हाथ एक शस्त्र हो, न हाथ एक अस्त्र हो, न अन्न वीर वस्त्र हो, हटो नहीं, डरो नहीं, बढ़े चलो, बढ़े चलो । रहे समक्ष हिम-शिखर, तुम्हारा प्रण उठे निखर, भले ही जाए जन बिखर, रुको नहीं, झुको...

पंकज बिष्ट

आज हम बात करने वाले हैं, हिन्दी साहित्य के प्रतिष्ठित पत्रकार, कहानीकार, उपन्यासकार व समालोचक पंकज बिष्ट जी के बारे में, जिन्होंने दिल्ली से प्रकाशित 'समयांतर' नामक हिन्दी साहित्य की मासिक पत्रिका...

प्रोफेसर रघुवेंद्र तंवर

आज हम बात करने वाले हैं, वर्ष २०२२ में पद्मश्री पुरस्कार-उपाधि से अलंकृत प्रसिद्धि साहित्यकार रघुवेंद्र तंवर जी के बारे में, जिन्हें भारत सरकार ने जनवरी २०२२ में भारतीय ऐतिहासिक अनुसंधान परिषद,...

Follow us

22,044FansLike
2,506FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Instagram

Most Popular

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

मामा जी की स्मृति से

अपने बेटों से परेशान होकर एक महोदय कैंट स्टेशन के एक बैंच पर सोए हुए थे। उन्हें कहीं जाना था, मगर कहां यह उन्हें...