latest posts

अश्वघोष

कहा जाता है कि मगध दरबार के महाकवि व दर्शनीय अश्वघोष को कुषाण नरेश कनिष्क ने मगध पर आक्रमण कर अपने साथ पुरुषपुर यानी आज का पेशावर ले गया था। अश्वघोष की...

आर्यभट

आज हम बात करने वाले हैं, प्राचीन भारत के एक महान ज्योतिषविद् और गणितज्ञ आर्यभट के बारे में, जिन्होंने अपनी महान ज्योतिषीय ग्रंथ आर्यभटीय में अपने द्वारा किए ज्योतिषशास्त्र के अनेक सिद्धांतों...

श्री ज्योतिरीश्वर ठाकुर

मैथिली व संस्कृत भाषा के मूर्धन्य कवि, लेखक, नाटककार एवम संगीतकार श्री ज्योतिरीश्वर ठाकुर या कविशेखराचार्य ज्योतिरीश्वर ठाकुर को वर्ण रत्नाकर के लिए जाना जाता है, जो मैथिली भाषा में उनका विश्वकोशीय...

विद्यापति

विद्यापति मैथिली और संस्कृत भाषा के कवि, संगीतकार, लेखक, दरबारी और राज पुरोहित थे। वह शिव के भक्त थे, लेकिन उन्होंने प्रेम गीत और भक्ति वैष्णव गीत भी लिखे। उन्हें 'मैथिल कवि...

पंडित मंडन मिश्र

मधुबनी का भटपुरा और भटसीमर गांव भाट्टमीमांसा के गढ़ थे। मीमांसा अध्ययन की प्रधानता का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि जब १५वीं सदी के मध्य में विश्वासदेवी के शासन...

वात्स्यायन

कामसूत्र एवं न्यायसूत्रभाष्य के रचनाकार वात्स्यायन या मल्लंग वात्स्यायन का काल गुप्तवंश के समय यानी छठवीं शताब्दी से आठवीं शताब्दी के मध्य माना जाता है, मगर इसमें विद्वानों का मदभेद है, जिसपर...

पंडित विष्णु शर्मा

आज हम बात करने वाले हैं, देव भाषा संस्कृत की प्रसिद्ध नीतिपुस्तक पंचतन्त्र के रचनाकार पंडित विष्णु शर्मा जी के बारे में, जिन्होंने नीतिकथाओं में प्रथम स्थान पर स्थित पंचतन्त्र की रचना...

महाकवि बाणभट्ट

महाकवि बाणभट्ट सातवीं शताब्दी के राजा हर्षवर्धन के कार्यकाल में संस्कृत भाषा के महान गद्यकार और विलक्षण कवि थे। परिचय... महाकवि बाणभट्ट संस्कृत के ऐसे गिने-चुने लेखकों में से एक हैं जिनके जीवन एवं...

more posts

अश्वघोष

कहा जाता है कि मगध दरबार के महाकवि व दर्शनीय अश्वघोष को कुषाण नरेश कनिष्क ने मगध पर आक्रमण कर अपने साथ पुरुषपुर यानी आज का पेशावर ले गया था। अश्वघोष की...

आर्यभट

आज हम बात करने वाले हैं, प्राचीन भारत के एक महान ज्योतिषविद् और गणितज्ञ आर्यभट के बारे में, जिन्होंने अपनी महान ज्योतिषीय ग्रंथ आर्यभटीय में अपने द्वारा किए ज्योतिषशास्त्र के अनेक सिद्धांतों...

श्री ज्योतिरीश्वर ठाकुर

मैथिली व संस्कृत भाषा के मूर्धन्य कवि, लेखक, नाटककार एवम संगीतकार श्री ज्योतिरीश्वर ठाकुर या कविशेखराचार्य ज्योतिरीश्वर ठाकुर को वर्ण रत्नाकर के लिए जाना जाता है, जो मैथिली भाषा में उनका विश्वकोशीय...

विद्यापति

विद्यापति मैथिली और संस्कृत भाषा के कवि, संगीतकार, लेखक, दरबारी और राज पुरोहित थे। वह शिव के भक्त थे, लेकिन उन्होंने प्रेम गीत और भक्ति वैष्णव गीत भी लिखे। उन्हें 'मैथिल कवि...

पंडित मंडन मिश्र

मधुबनी का भटपुरा और भटसीमर गांव भाट्टमीमांसा के गढ़ थे। मीमांसा अध्ययन की प्रधानता का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि जब १५वीं सदी के मध्य में विश्वासदेवी के शासन...

वात्स्यायन

कामसूत्र एवं न्यायसूत्रभाष्य के रचनाकार वात्स्यायन या मल्लंग वात्स्यायन का काल गुप्तवंश के समय यानी छठवीं शताब्दी से आठवीं शताब्दी के मध्य माना जाता है, मगर इसमें विद्वानों का मदभेद है, जिसपर...

Most Popular

नेल पॉलिश

कोरोना संक्रमण काल के मध्य अथवा यूं कहें तो लॉकडाउन के बाद फिल्म शूटिंग के लिहाज से यह साल यानी 2020 बहुत ज्यादा अच्छा...

नरक चतुर्दशी

दीपावली के ठीक एक दिन पूर्व एवम धनतेरस के दूसरे दिन को नरक चतुर्दशी पड़ता है। जिसे छोटी दीवाली, रूप चौदस और काली चतुर्दशी...

दीपावली

असतो मा सद्गमय। तमसो मा ज्योतिर्गमय। मृत्योर्मा अमृतं गमय। ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः॥ अर्थात्... असत्य से सत्य की ओर। अंधकार से प्रकाश की ओर। मृत्यु से अमरता की...

Follow us

22,044FansLike
2,506FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Don't Miss

स्वतंत्रता आंदोलन में बिहार के साहित्यकारों का योगदान

जैसा कि हम सभी जानते हैं, कि भारत के स्वतन्त्रता संग्राम की यज्ञ वेदी पर समस्त देश ने एक साथ मिलकर अपने अपने रक्त...

ऋषि सुनक

गर्व की बात है, एक भारतवंशी यूनाइटेड किंगडम का प्रधानमंत्री बन गया। क्या आप जानते हैं? जी हां! ऋषि सुनक २५ अक्टूबर, २०२२ को...

भगवान चित्रगुप्त

गरूड़ पुराण के अनुसार, पाप और पुण्य के मध्य फंसकर जीवात्मा को यमलोक गमन पर निकलना पड़ता है। मृत्यु के बाद यमलोक के यमदूतों...