Category: स्थानीय साहित्यकार (बक्सर)

राय कृष्णदास

लेखक, गीतकार, कहानीकार, चित्रकार, मूर्तिकार, पुरातत्वविद् आदि विषयों में महारथ हासिल करने वाले कृष्णदास जी ‘ललित कला अकादमी' के भी सदस्य थे, परंतु उनका विशेष योगदान हिन्दी के प्रति रहा। उन्होंने इसमें...

अमरनाथ झा

आज हम बात करेंगे मूर्धन्य विद्वान पंडित श्री तीर्थनाथ झा जी के पौत्र व संस्कृत, हिन्दी, मैथिली एवं अंग्रेजी के मूर्धन्य विद्वान एवं शिक्षाशास्त्री गंगानाथ झा जी के पुत्र तथा पद्मभूषण सम्मान...

आचार्य रामलोचन सरन

आपने भी शायद, शायद क्या निश्चित ही मनोहर पोथी का नाम सुना ही होगा। जी हां! वही मनोहर पोथी जिससे नौसिखियों को कभी हिन्दी सिखाया जाता था। मनोहर पोथी का शुद्ध और...

आचार्य जानकी वल्लभ शास्त्री

आज हम एक ऐसे प्रसिद्ध कवि के बारे में चर्चा करने वाले हैं, जिन्हें उत्तरप्रदेश सरकार ने 'भारत भारती पुरस्कार' से सम्मानित किया था तथा वे उन थोड़े-से कवियों में गिने जाते...

कैलाश गौतम

काव्य प्रेमियों के मानस को अपनी कलम और वाणी से झकझोरने वाले जादुई कवि श्री कैलाश गौतम जी का जन्म ८ जनवरी, १९४४ को वाराणसी जनपद के चंदौली अंतर्गत डिग्घी नामक गांव...

महाराजा रामेश्वर सिंह ठाकुर

आज पूरे विश्व में विद्वत समाज में से ऐसा कौन होगा जो काशी हिन्दू विश्वविद्यालय को नहीं जानता होगा। इस विश्वविद्यालय ने देश और विदेश को अनगिनत प्रतिभाएं दी हैं। बड़े बड़े...

पद्मनारायण राय

हिन्दी के निबन्धकार और साहित्यकार पद्मनारायण राय जी का जन्म १० जनवरी, १९०८ को मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर में हुआ था। ये काफ़ी लम्बे समय तक 'नागरी प्रचारिणी पत्रिका' के सम्पादक रहे थे। इनके...

रामचन्द्र वर्मा

आज हम बात करने वाले हैं, वर्ष १९०७ में बालगंगाधर तिलक के मराठी पत्र 'केसरी' के हिन्दी संस्करण की जिम्मेदारी निभाने वाले एवम हिन्दी साहित्य की महती सेवक श्री रामचन्द्र वर्मा जी...

Follow us

22,044FansLike
2,506FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Instagram

Most Popular

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

मामा जी की स्मृति से

अपने बेटों से परेशान होकर एक महोदय कैंट स्टेशन के एक बैंच पर सोए हुए थे। उन्हें कहीं जाना था, मगर कहां यह उन्हें...