डॉ.अम्बेडकर बनाम अम्बेडकरवादी

अंतस के आरेख
विषय : डॉ भीमराव अम्बेडकर
दिनाँक : २८/११/१९

एक नया ड्रामा डॉ अम्बेडकर के नाम पर प्रचलित हुआ है। इसका उद्देश्य केवल डॉ अम्बेडकर के नाम का प्रयोग कर अपरिपक्व लोगों को भड़काना है। इनकी मान्यताएं डॉ अम्बेडकर की मान्यताओं के सर्वथा विपरीत है।

1. डॉ अम्बेडकर- आर्य लोग बाहर से नहीं आये थे। Aryan invasion theory पश्चिमी लेखकों की एक कल्पना मात्र है।

अम्बेडकरवादी- दलित लोग भारत के मूलनिवासी हैं। उन्हें ब्राह्मण आर्यों ने हरा कर इस देश पर कब्ज़ा कर लिया। सभी ब्राह्मण आर्य हैं, सभी दलित अनार्य हैं।

2. डॉ अम्बेडकर – इस्लाम समभाव एवं भ्रातृभाव का सन्देश देने में व्यवहारिक रूप से सक्षम नहीं है। इसलिए 1947 में पाकिस्तान बनने पर सभी दलित भारत आ जाये। इतिहास इस बात का गवाह है।

अम्बेडकरवादी – इस्लाम एकता और भाईचारे का सन्देश देता हैं। हमें इस्लाम स्वीकार करने में कोई दिक्कत नहीं हैं।

3. डॉ अम्बेडकर – ईसाई समाज धन, शिक्षा, नौकरी, चिकित्सा सुविधा आदि के बल पर दरिद्र, अशक्त, पीड़ित हिन्दुओ का धर्म परिवर्तन करता हैं। यह गलत हैं।

अम्बेडकरवादी- धन लो और ईसाई बनो। बाप बड़ा न भइया सबसे बड़ा रुपया। ईसाईयों की इस कुटिल नीति का कभी विरोध नहीं करना।

4. डॉ अम्बेडकर – राष्ट्रवाद सबसे ऊपर है और रहेगा। राष्ट्र से ऊपर कुछ नहीं।
अम्बेडकरवादी- हम भारत की बर्बादी का नारा लगाने वालों के साथ है। स्वहित पहले राष्ट्रवाद बाद में।

5. डॉ अम्बेडकर- संविधान का सम्मान करना और उसका पालन करना हमारा नैतिक कर्त्तव्य हैं।

अम्बेडकरवादी- हम संविधान विरोधी इस्लामिक फतवों का समर्थन करते हैं। हम संविधान के आधार पर फांसी चढ़ाये गए अफ़जल गुरु और याकूब मेनन की फांसी का विरोध करते हैं। जहाँ जैसे काम निकले वैसा करो।

6. डॉ अम्बेडकर – देश तोड़ने वाली विदेशी ताकतों के हाथ की कठपुतली बनना गलत है। अनेक प्रलोभन मिलने के बाद भी मुझे अस्वीकार है।

अम्बेडकरवादी- दुकानदारी पहले देश बाद में। NGO का धंधा तो चलता ही विदेशी पैसे के बल पर हैं। विदेश से पैसे लो देश को बर्बाद करो।

7. डॉ अम्बेडकर- देश की आज़ादी के लिए संघर्ष करने वाले क्रांतिकारियों और भारत के वीर सैनिकों का सम्मान हो।

अम्बेडकरवादी- भारतीय सेना पर हमला करने वाले, पाक समर्थक कश्मीर के आतंकवादियों के लिए ज़िंदाबाद। असली सिपाही वही है। भारतीय सेना ने कश्मीर पर कब्ज़ा किया हुआ हैं।

8 . डॉ अम्बेडकर – वन्दे मातरम, भारत मत की जय आदि नारा लगाने का मैं समर्थन करता हूँ।

अम्बेडकरवादी- जय अम्मी, जय हिन्द का नारा लगाएंगे मगर भारत माता की जय और वनडे मातरम कहने में दिक्कत हैं। क्यूंकि हम तो सहूलियत पर विश्वास करते है।

9. डॉ अम्बेडकर – देश की उन्नति करने वालों के साथ मिलकर काम करना गलत नहीं हैं।

अम्बेडकरवादी- हम केवल नास्तिकों, मुसलमानों और ईसाईयों का समर्थन करेंगे। क्यूंकि बाकि सभी ब्राह्मणवादी और मनुवादी हैं।

10. डॉ अम्बेडकर- जीवन में आगे बढ़ने के लिए पुरुषार्थ करो, सकारात्मक कार्य करो। सदाचारी, संयमी, शुद्ध आचरण वाला, प्रगतिशील बनो।

अम्बेडकरवादी- हम केवल विरोध करना जानते हैं। चाहे अच्छी बात हो चाहे बुरी बात हो। चिल्ला चिल्ला कर अपना हक लेंगे। मगर काम कुछ नहीं करेंगे।

11. डॉ अम्बेडकर- मांस खाना गलत है।

अम्बेडकरवादी- बीफ़ पार्टी करना हमारा मौलिक हक हैं। मांस खाने में कोई हिंसा नहीं हैं। गोमांस खाएंगे अम्बेडकरवादी कहलाएंगे। गोमांस खाने से हम मुसलमानों के मित्र बन जाते हैं।

12. डॉ अम्बेडकर- बुद्ध के अहिंसा के सन्देश पर चलो।

अम्बेडकरवादी- अहिंसा का तगमा गले में लटका कर हम सदा वैचारिक हिंसा और प्रदुषण करते हैं क्यूंकि हम अम्बेडकरवादी मत वाले हैं।

(आम्बेडकर द्वारा वामपंथ का तीव्र विरोध)

बाबासाहेब आम्बेडकर ने वामपंथियों से देश को होने वाले खतरे के मद्देनज़र उनके प्रति अपनी कड़ी नापसंदगी व घोर विरोध को खुल कर प्रकट किया और समाज को वामपंथ के प्रति आगाह भी किया l
अपने दल “शेड्यूल्ड कास्ट फेडरेशन” के घोषणापत्र में वे लिखते हैं, “मैं कौम्युनिस्टों के साथ कोई गठबंधन नहीं करूंगा क्योंकि कौम्युनिस्ट व्यक्तिगत-स्वतंत्रता और संसदीय-लोकतंत्र को नष्ट कर तानाशाही स्थापित करना चाहते है” l पीटीआई से साक्षात्कार में इसे दुहराते हुए उन्होंने कोम्युनिस्म में अ-विश्वास जताया l

कौम्युनिस्टों की कुत्सित मंशा पर संविधान सभा में उन्होंने कहा, “कोम्युनिस्ट, संविधान में असीमित मौलिक अधिकार केवल इसलिए चाहते हैं कि सत्ता-विहीन होने पर वे न सिर्फ आलोचना कर सकें बल्कि सरकार का तख्ता-पलट भी कर सकें” l

मसूर जिला-सम्मलेन में उन्होंने स्वयं को कौम्युनिस्टों का पक्का दुश्मन बताया; कौम्युनिस्टों को राजनैतिक-लाभ हेतु मजदूरों का शोषणकर्ता कहा l

कोम्युनिस्ट डांगे ने लोगों से खुली अपील में बाबासाहेब को वोट न देने को कहा l चुनावी भ्रष्टाचार के लिए डांगे के विरुद्ध याचिका में बाबासाहेब ने डांगे को क़ानून ताक पर रख भ्रष्टाचार और प्रोपगंडा में लीन बताया l
बौद्ध-धर्म के प्रति कौम्युनिस्टों की घृणा पर अपनी कड़ी नाराजगी में उन्होंने कोम्युनिस्तों को विश्लेषण-क्षमता से विहीन बताया था l

बाबासाहेब ने लिखा, “कोम्युनिस्म एक मोटे सूअर और एक इंसान के बीच फर्क नहीं समझता; वो नहीं समझता कि इंसान के लिए भौतिक समृद्धि के साथ आध्यात्म भी आवश्यक है” l कोम्युनिस्तों द्वारा की गई हत्याओं पर भी सवाल उठाते हुए उन्होंने पूछा कि क्या इंसानी जान की कोई कीमत नहीं होती l

आज वामपंथियों की राष्ट्र-विरोधी हरकतें बाबासाहेब की आशंकाओं को सच सिद्ध करती हैं l दलित-वंचित भाइयों को बाबासाहेब द्वारा घोषित कोम्युनिस्ट-रूपी खतरे के मद्देनज़र ये समझना होगा कि कोम्युनिस्ट केवल अपनी डूबती नैया के रक्षार्थ उनका इस्तेमाल कर रहे हैं l महान विद्वान-मानवतावादी और संविधान-निर्माता बाबासाहेब को उनकी जयन्ती पर शत शत नमन !

Sources–
Dr Babasaheb Ambedkar Writing & Speech (Government of India)

Parliamentary speech (Parliament of India)

P Radhakrishnan’s book “India, Perfidies of Power

Election Manifesto of “The Scheduled cast Federation” prepared by Babsaheb Ambedkar ;
Election petition filed by Dr Ambedkar

दोस्तों अगर विश्वास ना हो तो आप स्वयं डॉ अम्बेडकर प्रतिष्ठान द्वारा, बाबा साहेब अम्बेडकर सम्पूर्ण वांग्मय मंगा कर पढ़ सकते हैं। इसके 21 खंड हैं…और ये सारे अब मेरे पास हैं।

धन्यवाद !

विद्यावाचस्पति अश्विनी राय ‘अरूण’

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

मणिकर्णिका घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...