July 24, 2024

११ जुलाई

जनसंख्या सम्बंधित समस्याओं पर वैश्विक चेतना जागृत करने का दिन।

8 जुलाई 2018 संयुक्त राज्य अमेरिका की जनगणना ब्यूरो द्वारा विश्व की जनसंख्या अनुमानित तौर पर 7.463 अरब है ।

विश्व जनसंख्या दिवस की शुरूआत 11 जुलाई 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम द्वारा की गई थी। उस वक्त विश्व की जनसंख्या लगभग 5 अरब थी। इस जनसंख्या की ओर ध्यान देते हुए 11 जुलाई 1989 को वर्ल्ड पॉपूलेशन डे की घोषणा की गई।

हम बात करते हैं अपने घर की यानी भारत की ।

भारत जनसंख्या वृद्धि में दुनिया के कई देशों से बहुत आगे। बढ़ती जनसंख्या भारत के लिए बहुत बड़ी चिंता का विषय है। आजादी के वक्त (1947) भारत की आबादी 34.20 करोड़ थी जो आज बढ़ कर १ अरब २५ करोड़ से भी ऊपर पंहुच चुकी है। भारत में दुनिया की १५ फीसद आबादी रहती है और भारत के पास विश्व का २.४ प्रतिशत भू- भाग है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है जनसंख्या वृद्धि किस तरह एक विकराल समस्या है।

कोई चिंता नहीं ….

आरक्षण है ना …

हम हड़ताल करेंगे , तोड़ फोड़ करेंगे औऱ अपना हक ले के रहेंगे । आखिर १५ फीसद आबादी के लिये २.४ फीसदी ज़मीन , नाइंसाफी है ।

हम पंचायत करेंगे
उच्च से उच्चतम न्यायालय जायेंगे
दंगा करेंगे

स्कूल बंदी होगी
अस्पताल बन्द

हमारे पास नेता हैं , विचारक हैं , ज्ञानी हैं ,
रास्ता निकाल कर रहेंगे
हमारी मांगे पूरी करनी होंगी ।

कुछ ऐसा ही होता है ना हमारे यहां .. बुरा मत मानिये हम सिर्फ़ मन की भड़ास निकाल रहे हैं ।

हमारे देश में तो ऐसा ही होता आ रहा है , किसी ने खून पसीने से और कई पीढियों को जला कर ज़मीन बनाया , जनसँख्या बढ़ोतरी को रोका ।
और
यहीं गल्ती हो गई , लो आ गया सरिया कानून (सीलिंग कानून ) । छीन गई जमीन क्यूँ की तुम्हारी आबादी कम जो है ।
अब देखिए
एक तरफ बढ़ती आबादी का दुख रोना और
दूसरी ओर आबादी बढ़ाने वाले को पुरस्कृत करना । उनके लिये पक्का मकान , राशन किराशन , दवा के साथ दुवा भी ताकी वोटर बन सकें , शौचालय ।

किन्हीं नेतृत्व कर्ता तो यहां तक कहते हैं , मै आप को जमीन भी दूंगा । सरकारी जमीन हुई तो ठिक वर्ना जमींदारों से छिना जायेगा ।

मैँ अब कुछ और कहना ठिक नहीं समझता ।

प्राकृतिक संसाधनों का समुचित दोहन कर मानव समाज को सर्वश्रेष्ठ बनाए रखने और हर इंसान के भीतर इन्सानियत को बरकरार रखने के लिए यह बहुत ज़रूरी हो गया है कि ‘विश्व जनसंख्या दिवस’ की महत्ता को समझा जाए।

जय भारत
जय विश्व
जय धरती मैया

Ashwini Rai

About Author

Leave a Reply