May 28, 2024

कोई हमदम ना रहा,
कोई सहारा ना रहा।
हम किसी के ना रहे,
कोई हमारा ना रहा॥

अभास कुमार गांगुली
4 अगस्त, 1929
गायक
अभिनेता
निर्देशक
निर्माता

भारतीय सिनेमा के मशहूर पार्श्वगायक समुदाय में से एक रहे हैं। वे एक अच्छे अभिनेता के रूप में भी जाने जाते हैं। हिन्दी फ़िल्म उद्योग में उन्होंने बंगाली, हिंदी, मराठी, असमी, गुजराती, कन्नड़, भोजपुरी, मलयालम, उड़िया और उर्दू सहित कई भारतीय भाषाओं में गाया था।

“मेरे सपनो की रानी कब आएगी तू”

वे इन्दौर के क्रिश्चियन कॉलेज में पढ़े थे और उनकी आदत थी कॉलेज की कैंटीन से उधार लेकर खुद भी खाना और दोस्तों को भी खिलाना। वह ऐसा समय था जब 10-20 पैसे की उधारी भी बहुत मायने रखती थी। किशोर कुमार पर जब कैंटीन वाले के पाँच रुपया बारह आना उधार हो गए और कैंटीन का मालिक जब उनको अपने पाँच रुपया बारह आना चुकाने को कहता तो वे कैंटीन में बैठकर ही टेबल पर गिलास और चम्मच बजा बजाकर पाँच रुपया बारह आना गा-गाकर कई धुन निकालते थे और कैंटीन वाले की बात अनसुनी कर देते थे। बाद में उन्होंने अपने एक गीत में इस पाँच रुपया बारह आना का बहुत ही खूबसूरती से इस्तेमाल किया। शायद बहुत कम लोगों को पाँच रुपया बारह आना वाले गीत की यह असली कहानी मालूम होगी।

शायद आप उन्हें पहचान गए…..
जी हां…
किशोर कुमार का ही असली नाम आभास कुमार गांगुली था। मध्यप्रदेश के खंडवा शहर मे जन्म होने के कारण वे शान से कहते थे किशोर कुमार खंडवे वाले, अपनी जन्म भूमि और मातृभूमि के प्रति ऐसा ज़ज़्बा बहुत कम लोगों में दिखाई देता है।

“‘चला जाता हूँ किसी की धुन में…'”

ऐसे मस्ताने को हमारा सलाम, सलाम , सलाम ।

About Author

Leave a Reply