June 24, 2024

अंतस के आरेख
त्रिदिवसीय काव्य प्रतियोगिता,
दिनाँक : २८ अक्तूबर २०१९

शीर्षक : दिए की जंग

एक शाम चौराहे पर
दिया जल रहा था
कभी मद्धम तो
कभी भभक रहा था

एक शाम चौराहे पर
दिया जल रहा था

चल रही थी हवा
आंधी बनकर
खुद को जलाए रखने को
वह लड़ रहा था

कभी वेग थमता
वो संभलता
कभी जो चलती वेगी
वो आस्तित्व से लड़ रहा था

एक शाम चौराहे पर
दिया जल रहा था

कभी रौशन किए खड़ा था
आज जहमत में पड़ा था
थी लड़ाई उसकी या हमारी
सोच में पड़ा था

एक शाम चौराहे पर
दिया जल रहा था

जब जमाना
चैन से सो रहा था
उसे रौशन रखने को
वह हवा से लड़ रहा था

काम नहीं आसां था
हवा को सलामी दे या
दे जमाने को रौशनी
अजब धर्मसंकट में पड़ा
वो जल रहा था

एक शाम चौराहे पर
दिया जल रहा था

नहीं झूकूगा बैरी से
सेवा धर्म है मेरा
यही तो कर्म है मेरा

टिमटिमाता दिया
यह सोच कर
एक बार जोर से
भभक पड़ा था

बड़ी देर से लड़ता रहा
हवा के हर वार को सहता रहा
घायल था, कमजोर बड़ा था
तेल का तेज भी
कम हो पड़ा था
हवा के इस झोके से
लड़ता, जूझता
बुझ गया था

एक शाम चौराहे पर
जो दिया जल रहा था

बुझ गया था दिया
थी रौशन उसकी हिम्मत
बुझे दिए के धूवे ने
अलख जगा रखी थी
जमाने के नथुने में
अपनी खुशबू फैला रखी थी
हवा से जूझता वो
जमाने को जगा रहा था

उठो, जागो, खड़े हो जाओ
अंधेरा गहरा हो गया है
युद्ध का बिगुल फूंकता
वो समर में घूल गया था

एक शाम चौराहे पर
जो दिया जल रहा था

अश्विनी राय ‘अरूण’

About Author

Leave a Reply