ब्रजबासी लाल

प्रसिद्ध महाकाव्‍य महाभारत से ऐसा कौन है जो वाकिफ ना हो। यह महाकाव्‍य मुख्‍यतः एक ही परिवार के दो उत्तराधिकारियों के मध्‍य सिंहासन के लिए हुए युद्ध पर केंद्रित है। महाभारत काल में दो स्‍थान प्रमुख थे, हस्‍तिनापुर और इन्‍द्रप्रस्‍थ। इन्‍द्रप्रस्‍थ को अब दिल्‍ली के नाम से जाना जाता है तथा हस्तिनापुर मेरठ के पास स्थित है। १९५० से १९५२ के मध्य पुरातत्त्वविद् ब्रज बासी लाल के अधीन भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण टीम ने हस्‍तीनापुर का उत्‍तखनन का कार्य किया था। वे भारत के प्रख्यात पुरातत्त्वविद् हैं।

ब्रजबासी लाल जी का जन्म २ मई, १९२१ में झान्सी में हुआ था। उन्होंने भारत के विभिन्न क्षेत्रों में अनेक पुरातात्विक स्थलों का अन्वेषण एवं उत्खनन का कार्य किए हैं। भारत सरकार ने उनके कार्यों के लिए सन २००० में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण सम्मान से सम्मानित किया था।

१९६८ से १९७२ तक वे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के महानिदेशक के पद पर आसीन रहे और इन्‍होंनें शिमला के भारतीय उन्नत अध्ययन संस्थान के निदेशक के रूप में भी कार्य किया है। कालान्तर में श्री लाल ने विभिन्न यूनेस्को समितियों में भी अपनी सेवा प्रदान की हैं। उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से नवाजा गया। श्री लाल ने कौरवों की राजधानी हस्तिनापुर सहित महाभारत के अन्य भागों पर भी पुरातत्व का कार्य किया है। उन्होंने सिन्धु-गंगा के विभाजन और ऊपरी यमुना गंगा दोआब में कई चित्रित ग्रे वेयर भागो की भी खोज की।

हस्तिनापुर की खुदाई में सामने आयी खोजों का वास्‍तव में महाभारत काल के साथ कोई संबंध है, यह तथ्‍य अभी भी विवादास्‍पद बना हुआ है। इन्‍हीं खोजों में सामने आया ‘विदुर-का-टीला’ यह कई टीलों का संग्रह है जिनमें से कुछ ५० से ६० फीट ऊंचे हैं तथा कुछ फर्लांगों (एक मील का आठवां भाग) तक विस्‍तृत हैं। इन टीलों का नाम विदुर के नाम पर रखा गया है। विदुर का टीला मेरठ से ३७ किलोमीटर उत्तर-पूर्व में है। यह कौरवों की राजधानी और महाभारत के पांडवों के प्राचीन शहर हस्तिनापुर के अवशेषों से बना था, जो कालांतर में गंगा की बाढ़ से बह गया था।

हस्तिनापुर के आसपास की पुरातात्विक खुदाई में, लगभग १३५ लोहे की सामान मिले थे जिसमें तीर और भाले, शाफ्ट, चिमटे, हुक, कुल्हाड़ी तथा चाकू शामिल थे, जो कि एक प्रबल लोहे के उद्योग की ओर संकेत करते है। ईंटों से बने मार्ग, जलनिकासी प्रणाली और कृषि आधारित अर्थव्यवस्था के संकेत भी मिले हैं। आगे की खुदाई में द्रौपदी-की-रसोई और द्रौपदी घाट सामने आये, जिसमें तांबे के बर्तन, लोहे की मुहरें, सोने और चांदी से बने आभूषण, टेराकोटा डिस्क और कई आयताकार आकार के हाथीदांत के पासे के उपयोग वाला चौपर का खेल मिला जो लगभग ३००० ईपू के हैं। ब्रज बासी लाल द्वारा खोजे गये विदुर के टीले का संबंध वास्तव में विदुर का टीला है अथवा नहीं यह अभी विवाद में है।

श्री लाल के शोध ग्रन्थ…

The Earliest Civilization of South Asia.

India 1947-1997: New Light on the Indus Civilisation.

Frontiers of the Indus Civilization.

The Homeland of the Aryans. Evidence of Rigvedic Flora and Fauna & Archaeology, New Delhi, Aryan Books International.

The Saraswati Flows on: the Continuity of Indian Culture. New Delhi: Aryan Books International.

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

पंचगंगा घाट

काशी की बसावट के लिहाज से शहर के उत्तरी छोर से गंगा की विपरीत धारा की ओर चलें तो आदिकेशव घाट व राजघाट के...

आदिकेशव घाट

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

मामा जी की स्मृति से

अपने बेटों से परेशान होकर एक महोदय कैंट स्टेशन के एक बैंच पर सोए हुए थे। उन्हें कहीं जाना था, मगर कहां यह उन्हें...