लोचन प्रसाद पाण्डेय

आज हम ‘भारतेंदु साहित्य समिति’ के सदस्य एवम छत्तीसगढ़ गौरव प्रचारक मंडली जो कालांतर में महाकौशल इतिहास परिषद कहलाया, की संस्थापक लोचन प्रसाद पाण्डेय जी के बारे में बात करेंगे…

परिचय…

लोचन प्रसाद पाण्डेय जी का जन्म ४ जनवरी, १८८७ को मध्य प्रदेश के बिलासपुर जिला अंतर्गत बालपुर नामक गांव में हुआ था। वैसे आज बिलासपुर छत्तीसगढ़ का हिस्सा है। लोचन प्रसाद के पिता जी पंडित चिंतामणि पाण्डेय जी ने अपने गाँव में शिक्षा के लिए एक पाठशाला खुलवाई थी। लोचन प्रसाद जी अपने पिता के चतुर्थ पुत्र थे। वे आठ भाई थे- पुरुषोत्तम प्रसाद, पदमलोचन, चन्द्रशेखर, लोचन प्रसाद, विद्याधर, वंशीधर, मुरलीधर और मुकुटधर तथा चंदन कुमारी, यज्ञ कुमारी, सूर्य कुमारी और आनंद कुमारी, ये चार बहनें थीं।

शिक्षा…

लोचन प्रसाद पाण्डेय जी की प्रारंभिक शिक्षा बालपुर की निजी पाठशाला में हुई थी। वर्ष १९०२ में संबलपुर मिडिल स्कूल से पास होकर वर्ष १९०५ में कलकत्ता से इंटर की परीक्षा पास कर बनारस आ गये, जहाँ उनका संपर्क अनेक साहित्य मनीषियों से हुआ। उन्होंने अपने प्रयत्न से ही उड़िया, बंगला और संस्कृत का भी ज्ञान प्राप्त किया था। लोचन प्रसाद पाण्डेय जी ने अपने जीवन काल में अनेक जगहों का भ्रमण किया। साहित्यिक गोष्ठियों, सम्मेलनों, कांग्रेस अधिवेशन, इतिहास-पुरातत्व खोजी अभियान में वे सदा तत्पर रहे। उनके खोज के कारण अनेक गढ़, शिलालेख, ताम्रपत्र, गुफ़ा प्रकाश में आ सके। वर्ष १९२३ में उन्होंने ‘छत्तीसगढ़ गौरव प्रचारक मंडली’ की स्थापना की, जो बाद में ‘महाकौशल इतिहास परिषद’ कहलाया। उनका साहित्य, इतिहास और पुरातत्व में समान अधिकार था।

साहित्यिक सेवा..

पाण्डेय जी के कथा एवं घटना का आधार लेकर वृत्तात्मक कविताएँ लिखा करते थे। ये ‘सरस्वती’ में कविताएँ लिखने लगे थे। भारतेन्दु का जागरण-तृयं बज चुका था। द्विवेदी युग के शक्ति-संचय काल में लोचन प्रसाद पाण्डेय का अभ्यागमन हुआ। इसी समय सहृदय सामयिकता, ओज, संतुलित पद-योजना एवं तत्सम पदावली से पूर्ण इनकी कविता ने सांकेतिकता एवं ध्यन्यात्मकता के अभाव में भी हृदय-सम्पृक्त इतिवृत्त के कारण लोगों का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट किया। स्फुट एवं प्रबन्ध, दोनों ही प्रकार की कविताओं द्वारा लोचन प्रसाद जी ने सुधार-भाव को प्रतिष्ठापित किया। ‘मृगी दु:खमोचन’ नामक कविता में वृक्ष-पशु आदि के प्रति भी इनकी सहृदयता सुन्दर रूप में व्यक्त हुई है। ये मध्य प्रदेश के अग्रगण्य साहित्य नेता भी रहे।

रचनाएँ…

लोचन प्रसाद पाण्डेय ने ४० से अधिक ग्रन्थों की रचना की। इनमें ३ उड़िया में, ४ अंग्रेजी में और शेष हिन्दी में हैं। ‘दो मित्र’, ‘प्रवासी’ , ‘माधव मञ्जरी’, ‘कौशल रत्नमाला आदि उनकी प्रमुख रचनाएँ हैं।

लोचन प्रसाद पाण्डेय की प्रमुख रचनाओं का विवरण निम्नवत है:·

वर्ष १९०६ : ‘दो मित्र’ उद्देश्य प्रधान, सामाजिक उपन्यास, मैत्री आदर्श, समाज-सुधार, स्त्री-चरित्र से प्रेरित एवं पाश्चात्य सभ्यता की प्रतिक्रिया पर लिखित।

वर्ष १९०७ : मध्य प्रदेश से ही प्रकाशित ‘प्रवासी’ नामक काव्य-संग्रह में छायावादी, रहस्यमयी संकलनों की भाँति कल्पनागत, मूर्तिमत्ता एवं ईषत् लाक्षणिकता का प्रयास दिखाई पड़ता है।

वर्ष १९१० : ‘इण्डियन प्रेस’, प्रयाग से ‘कविता कुसुम माला’, बालोपयोगी काव्य-संकलन एवं १९१४ में ‘नीति कविता’ धर्मविषयक संग्रह निकले।

वर्ष १९१४ : ‘साहित्यसेवा’ नामक प्रहसन प्रकाशित हुआ, जिसमें व्यग्य-विनोद के लिए हास्योत्पादन की अतिनाटकीय घटना-चरित्र-संयोजन शैली का प्रयोग हुआ है। उसी वर्ष समाज-सुधारमूलक ‘प्रेम प्रशंसा’ व ‘गृहस्थ-दशा दर्पण’ नाट्य-कृति प्रकाशित हुई थी। साथ ही उनका ‘मेवाड़ गाथा’ ऐतिहासिक खण्ड-काव्य १९१४ में ही प्रकाशित हुआ था।

वर्ष १९१५ : ‘पद्य पुष्पांजलि’ नामक दो काव्य-संग्रह भी प्रकाशित हुए थे। इसी वर्ष उनके सामाजिक एवं राष्ट्रीय नाटक ‘छात्र दुर्दशा’ एवं अतिनाटकीयतायुक्त व्यंग्य-विनोदपरक ‘ग्राम्य विवाह’ आदि नाटक निकले।

अश्विनी रायhttp://shoot2pen.in
माताजी :- श्रीमती इंदु राय पिताजी :- श्री गिरिजा राय पता :- ग्राम - मांगोडेहरी, डाक- खीरी, जिला - बक्सर (बिहार) पिन - ८०२१२८ शिक्षा :- वाणिज्य स्नातक, एम.ए. संप्रत्ति :- किसान, लेखक पुस्तकें :- १. एकल प्रकाशित पुस्तक... बिहार - एक आईने की नजर से प्रकाशन के इंतजार में... ये उन दिनों की बात है, आर्यन, राम मंदिर, आपातकाल, जीवननामा - 12 खंड, दक्षिण भारत की यात्रा, महाभारत- वैज्ञानिक शोध, आदि। २. प्रकाशित साझा संग्रह... पेनिंग थॉट्स, अंजुली रंग भरी, ब्लौस्सौम ऑफ वर्ड्स, उजेस, हिन्दी साहित्य और राष्ट्रवाद, गंगा गीत माला (भोजपुरी), राम कथा के विविध आयाम, अलविदा कोरोना, एकाक्ष आदि। साथ ही पत्र पत्रिकाओं, ब्लॉग आदि में लिखना। सम्मान/पुरस्कार :- १. सितम्बर, २०१८ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विश्व भर के विद्वतजनों के साथ तीन दिनों तक चलने वाले साहित्योत्त्सव में सम्मान। २. २५ नवम्बर २०१८ को The Indian Awaz 100 inspiring authors of India की तरफ से सम्मानित। ३. २६ जनवरी, २०१९ को The Sprit Mania के द्वारा सम्मानित। ४. ०३ फरवरी, २०१९, Literoma Publishing Services की तरफ से हिन्दी के विकास के लिए सम्मानित। ५. १८ फरवरी २०१९, भोजपुरी विकास न्यास द्वारा सम्मानित। ६. ३१ मार्च, २०१९, स्वामी विवेकानन्द एक्सिलेन्सि अवार्ड (खेल एवं युवा मंत्रालय भारत सरकार), कोलकाता। ७. २३ नवंबर, २०१९ को अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग, अयोध्या, उत्तरप्रदेश एवं साहित्य संचय फाउंडेशन, दिल्ली के साझा आयोजन में सम्मानित। ८. The Spirit Mania द्वारा TSM POPULAR AUTHOR AWARD 2K19 के लिए सम्मानित। ९. २२ दिसंबर, २०१९ को बक्सर हिन्दी साहित्य सम्मेलन, बक्सर द्वारा सम्मानित। १०. अक्टूबर, २०२० में श्री नर्मदा प्रकाशन द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान। आदि। हिन्दी एवं भोजपुरी भाषा के प्रति समर्पित कार्यों के लिए छोटे बड़े विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सम्मानित। संस्थाओं से जुड़ाव :- १. जिला अर्थ मंत्री, बक्सर हिंदी साहित्य सम्मेलन, बक्सर बिहार। बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन, पटना से सम्बद्ध। २. राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य सह न्यासी, भोजपुरी विकास न्यास, बक्सर। ३. जिला कमिटी सदस्य, बक्सर। भोजपुरी साहित्य विकास मंच, कलकत्ता। ४. सदस्य, राष्ट्रवादी लेखक संघ ५. जिला महामंत्री, बक्सर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद। ६. सदस्य, राष्ट्रीय संचार माध्यम परिषद। ईमेल :- ashwinirai1980@gmail.com ब्लॉग :- shoot2pen.in

Similar Articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Instagram

Most Popular

काशी के घाट भाग – २

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। काशी...

काशी के घाट भाग – ३

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। जानकारी...

काशी के घाट भाग -४

काशी में गंगा तट पर अनेक सुंदर घाट बने हैं, ये सभी घाट किसी न किसी पौराणिक या धार्मिक कथा से संबंधित हैं। इनकी...