June 13, 2024

भारत के राष्ट्रीय नागरिक पंजी में उन भारतीय नागरिकों के नाम हैं जो असम में रहते हैं। इसे भारत की जनगणना १९५१ के बाद तैयार किया गया था। इसे जनगणना के दौरान वर्णित सभी व्यक्तियों के विवरणों के आधार पर तैयार किया गया था। जो लोग असम में बांग्लादेश बनने के पहले (२५ मार्च १९७१ के पहले) आए है, केवल उन्हें ही भारत का नागरिक माना जाएगा।

असम भारत का पहला ऐसा राज्य है जिसके पास राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC ) है। नागरिकता हेतु प्रस्तुत लगभग दो करोड़ से अधिक दावों (इनमें लगभग ३८ लाख लोग ऐसे भी थे जिनके द्वारा प्रस्तुत दस्तावजों पर संदेह था) की जाँच पूरी होने के बाद न्यायालय द्वारा एन.आर.सी. के पहले मसौदे को ३१ दिसंबर २०१७ तक प्रकाशित करने का आदेश दिया गया था। ३१ दिसंबर २०१७ को बहु-प्रतीक्षित राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का पहला ड्राफ्ट प्रकाशित किया गया। कानूनी तौर पर भारत के नागरिक के रूप में पहचान प्राप्त करने हेतु असम में लगभग ३.२९ करोड आवेदन प्रस्तुत किये गए थे, जिनमें से कुल १.९ करोड़ लोगों के नाम को ही इसमें शामिल किया गया है।

असम में नागरिक पंजी को आखिरी बार १९५१ में अद्यतन किया गया था। उस समय असम में कुल ८० लाख नागरिकों के नाम प्ंजीकृत किए गये थे।

About Author

Leave a Reply