May 25, 2024

 

प्रेम आखों कि ईनायत है
वो दिल कि बरकत है
वो उपजता है चोर निगाहों से
घायल मगर दिल हो जाता है

चोरी कि सजा
अकेलेपन कि मुहताज है
ये सच में प्रेम है या
आकर्षण बेआवाज है

जैसे शीशे में कैद हों सूरज
अथवा आईने में तेरी सूरत
मैं देखता हूं चोर निगाहों से
दिल में बसा लेता हूं तेरी मूरत

बस एक एहसास ऐसा है
जैसे विस्मय में सुकून है
ब्रह्मांड कदमों में पड़ा हो
और चाँद पाने का जुनून है

चोरी के प्रेम में
अथवा प्रेम कि चोरी में
अजीब समानता आज दिखी है
जैसे संबंध की सोच से जान पड़ी है

अश्विनी राय ‘अरुण’

About Author

Leave a Reply