May 25, 2024

महामना मदन मोहन मालवीय जी
जन्म – २५ दिसम्बर १८६१
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रणेता
युग के आदर्श पुरुष

मालवीय जी भारत के पहले और अन्तिम व्यक्ति थे
जिन्हें महामना की सम्मानजनक उपाधि से विभूषित किया गया।
पत्रकारिता, वकालत, समाज सुधार, मातृ भाषा तथा भारतमाता की सेवा में अपना जीवन अर्पण करने वाले इस महामानव ने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय की स्थापना की उसमें उनकी परिकल्पना ऐसे विद्यार्थियों को शिक्षित करके देश सेवा के लिये तैयार करने की थी जो देश का मस्तक गौरव से ऊँचा कर सकें। मालवीयजी सत्य, ब्रह्मचर्य, व्यायाम, देशभक्ति तथा आत्मत्याग में अद्वितीय थे। इन समस्त आचरणों पर वे केवल उपदेश ही नहीं दिया करते थे अपितु स्वयं उनका पालन भी किया करते थे। वे अपने व्यवहार में सदैव मृदुभाषी रहे।

जन्मदिवस के शुभ अवसर पर महामना को शत शत नमन…

धन्यवाद !

About Author

Leave a Reply