July 20, 2024

विद्यापति मैथिली और संस्कृत भाषा के कवि, संगीतकार, लेखक, दरबारी और राज पुरोहित थे। वह शिव के भक्त थे, लेकिन उन्होंने प्रेम गीत और भक्ति वैष्णव गीत भी लिखे। उन्हें ‘मैथिल कवि कोकिल’ (मैथिली के कवि कोयल) के नाम से भी जाना जाता है। विद्यापति का प्रभाव केवल मैथिली और संस्कृत साहित्य तक ही सीमित नहीं था, बल्कि अन्य पूर्वी भारतीय साहित्यिक परम्पराओं तक भी था।

सुन-सुन सुंदर कन्हाई।
तोहि सोंपलि धनि राई॥
कमलिनि कोमल कलेबर।
तुहु से भूखल मधुकर॥
सहज करह मधु पान।
भूलह जनि पँचबान॥

परिचय…

विद्यापति का जन्म उत्तरी बिहार के मिथिला क्षेत्र के वर्तमान मधुबनी जिला के विस्फी नामक एक गाँव में रहने वाले एक शैव ब्राह्मण परिवार के गणपति ठाकुर के पुत्र के रूप में हुआ था। विद्यापति का अर्थ होता है “ज्ञान का स्वामी”। उनके स्वयं के कार्यों और उनके संरक्षकों की परस्पर विरोधी जानकारी के कारण उनकी सही जन्म तिथि के बारे में भ्रम है। उनकी दो पत्नियाँ, तीन बेटे और चार बेटियाँ थीं।

राजनैतिक जीवन…

गणपति ठाकुर तिरहुत के शासक राजा गणेश्वर के दरबार में एक पुरोहित थें। उनके परदादा देवादित्य ठाकुर सहित उनके कई निकट पूर्वज अपने आप में उल्लेखनीय थे, जो हरिसिंह देव के दरबार में युद्ध और शान्ति मंत्री थे। अपने पूर्वजों के भांति विद्यापति ने भी मिथिला के ओइनवार वंश के विभिन्न राजाओं के दरबार में अपनी सेवा दी। विद्यापति सर्वप्रथम कीर्ति सिंह दरबार मे काम किया था, जिन्होंने लगभग वर्ष १३७० से वर्ष १३८० तक मिथिला पर शासन किया था। इस समय विद्यापति ने ‘कीर्त्तिलता’ की रचना की, जो पद्य में उनके संरक्षक के लिए एक लंबी स्तुति-कविता थी। इस कृति में दिल्ली के दरबारियों की प्रशंसा करते हुए एक विस्तारित मार्ग है, जो प्रेम कविता की रचना में उनके बाद के गुण को दर्शाता है। हालांकि कीर्त्तिसिंह ने कोई और काम नहीं किया, विद्यापति ने कीर्ति सिंह उत्तराधिकारी देवसिंह के दरबार में एक स्थान हासिल किया। गद्य कहानी संग्रह भूपरिक्रमण देवसिंह के तत्वावधान में लिखा गया था। विद्यापति ने देवसिंह के उत्तराधिकारी शिवसिंह के साथ घनिष्ठ मित्रता की और प्रेम गीतों पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया। उन्होंने मुख्य रूप से वर्ष १३८० और वर्ष १४०६ के बीच लगभग पाँच सौ प्रेम गीत लिखे। उस अवधि के बाद उन्होंने जिन गीतों की रचना की, वे शिव, विष्णु, दुर्गा और गंगा की भक्तिपूर्ण स्तुति थे।

वर्ष १४०२ से वर्ष १४०६ तक मिथिला के राजा शिवसिंह और विद्यापति के बीच घनिष्ठ मित्रता थी। जैसे ही शिवसिंह अपने सिंहासन पर बैठें, उन्होंने विद्यापति को अपना गृह ग्राम बिस्फी प्रदान किया, जो एक ताम्र पत्र पर दर्ज किया गया था। थाली में, शिवसिंह उसे “नया जयदेव” कहते हैं। सुल्तान की माँग पर कवि अपने राजा के साथ दिल्ली भी गए। उस मुठभेड़ के बारे में एक कहानी बताती है कि कैसे सुल्तान ने राजा को पकड़ लिया और विद्यापति ने अपनी दिव्य शक्तियों का प्रदर्शन करके उनकी रिहाई के लिए बातचीत की। शिवसिंह के अनुकूल संरक्षण और दरबारी माहौल ने मैथिली में लिखे प्रेम गीतों में विद्यापति के प्रयोगों को प्रोत्साहित किया, एक ऐसी भाषा जिसे दरबार में हर कोई आनंद ले सकता था। वर्ष १४०६ में, एक मुस्लिम सेना के साथ लड़ाई में शिवसिंह लापता हो गए थें। इस हार के बाद, विद्यापति और दरबार ने नेपाल के राजाबनौली में एक राजा के दरबार में शरण ली। वर्ष १४१८ में, पद्मसिंह एक अंतराल के बाद मिथिला के शासक के रूप में शिवसिंह के उत्तराधिकारी बने, जब शिवसिंह की प्रमुख रानी लखीमा देवी ने १२ वर्षों तक शासन किया। विद्यापति सर्वर पद्मसिंह पर लौट आए और लेखन जारी रखा, मुख्य रूप से कानून और भक्ति नियमावली पर ग्रंथ लिखा।

ऐसा माना जाता है कि लगभग १४३० या उससे पहले, वे अपने गाँव बिस्फी लौट आए थें। वह अक्सर शिव के मंदिर जाते थे।

हर जनि बिसरब मो ममिता,
हम नर अधम परम पतिता।
तुम सन अधम उधार न दोसर,
हम सन जग नहिं पतिता॥

प्रेम गीत…

अपने दूसरे संरक्षक, देवसिंह और विशेष रूप से उनके उत्तराधिकारी शिवसिंह के अधीन काम करते हुए, विद्यापति ने मैथिली मे राधा और कृष्ण के प्रेम के गीत रचना शुरू की। ऐसा प्रतीत होता है कि उसने केवल १३८० से १४०६ के बीच प्रेम गीतों की रचना की थी, हालाँकि वह १४४८ में अपनी मृत्यु के करीब तक लिखतें रहें। ऐसा लगता है कि उनके संरक्षक और मित्र शिवसिंह के एक युद्ध में लापता होने और उनके दरबार में जाने के बाद उन्होने प्रेम गीत लिखना बंद कर दिया था। ये गीत, जो अंततः पाँच सौ की संख्या में होंगे, परंपरा के साथ टूट गए। वे स्थानीय भाषा में मैथिली में गीतों के रूप में लिखे गए थे, न कि साहित्यिक संस्कृत में औपचारिक कविताओं के रूप में जो पहले किया जाता था। इन गीतों में अक्सर राजा शिवसिंह की रानियों का उल्लेख होता है, जो एक संकेतक है कि वे दरबार द्वारा आनंद लेने के लिए थे। कभी-कभी, उनकी कविताओं में कृष्ण को राजा शिवसिंह और राधा को राजा की प्रमुख रानी लखीमा देवी के साथ पहचाना जाता है।

मानिनि आब उचित नहि मान।
एखनुक रंग एहन सन लागय जागल पए पंचबान॥

भक्ति गीत…

हालाँकि उन्होंने राधा और कृष्ण के प्रेम पर सैकड़ों प्रेम गीत लिखे, लेकिन वे कृष्ण या विष्णु के विशेष भक्त नहीं थें। इसके बजाय, उन्होंने शिव और दुर्गा पर ध्यान आकर्षित किया, लेकिन विष्णु और गंगा के बारे में गीत भी लिखे। वह विशेष रूप से शिव और पार्वती के प्रेम गीतों और सर्वोच्च ब्राह्मण के रूप में शिव के लिए प्रार्थना के लिए जाने जाते हैं।

एत जप-तप हम की लागि कयलहु,
कथि लय कयल नित दान।
हमर धिया के इहो वर होयताह,
आब नहिं रहत परान।
नहिं छनि हर कें माय-बाप,
नहिं छनि सोदर भाय।
मोर धिया जओं ससुर जयती,
बइसती ककरा लग जाय।

शृंगार रस के कवि…

विद्यापति के शृंगारी कवि होने का कारण बिल्कुल स्पष्ट है। वे दरबारी कवि थे और उनके प्रत्येक पद पर दरबारी वातावरण की छाप दिखाई देती है। पदावली में कृष्ण के कामी स्वरूप को चित्रित किया गया है। यहां कृष्ण जिस रूप में चित्रित हैं वैसा चित्रण करने का दुस्साहस कोई भक्त कवि नहीं कर सकता। इसके इलावा राधा जी का भी चित्रण मुग्धा नायिका के रूप मे किया गया है। विद्यापति वास्तव में कवि थे, उनसे भक्त के समान अपेक्षा करना ठीक नहीं होगा। उन्होंने नायिका के वक्षस्थल पर पड़ी हुई मोतियों की माला का जो वर्णन किया है उससे उनके कवि हृदय की भावुकता एवं सौंदर्य अनुभूति का अनुमान लगाया जा सकता है।

कत न वेदन मोहि देसि मरदाना।
हट नहिं बला, मोहि जुबति जना।
भनई विद्यापति, तनु देव कामा।
एक भए दूखन नाम मोरा बामा।
गिरिवर गरुअपयोधर परसित।
गिय गय मौतिक हारा।
काम कम्बु भरि कनक संभुपरि।

राजवंश…

महाकवि ओईनवार राजवंश के अनेक राजाओं के शासनकाल में विराजमान रहकर अपने वैदुष्य एवं दूरदर्शिता से उनका मार्गदर्शन करते रहे। जिन राजाओं ने महाकवि को अपने यहाँ सम्मान के साथ रखा उनमें प्रमुख है…

देवसिंह, कीर्तिसिंह, शिवसिंह, पद्मसिंह, नरसिंह, धीरसिंह, भैरवसिंह और चन्द्रसिंह।

इसके अलावे महाकवि को इसी राजवंश की तीन रानियों का भी सलाहकार रहने का सौभाग्य प्राप्त था। ये रानियाँ हैं: लखिमादेवी (देई), विश्वासदेवी, और धीरमतिदेवी।

प्रमुख रचनाएँ…

महाकवि विद्यापति संस्कृत, अवहट्ठ, मैथिली आदि अनेक भाषाओं के प्रकांड पंडित थे। शास्त्र और लोक दोनों ही संसार में उनका असाधारण अधिकार था। कर्मकाण्ड हो या धर्म, दर्शन हो या न्याय, सौन्दर्यशास्र हो या भक्ति-रचना, विरह-व्यथा हो या अभिसार, राजा का कृतित्व गान हो या सामान्य जनता के लिए गया में पिण्डदान, सभी क्षेत्रों में विद्यापति अपनी कालजयी रचनाओं की बदौलत जाने जाते हैं।

(क) संस्कृत में :

१. भूपरिक्रमा (राजा देव सिंह की आज्ञा से विद्यापति ने इसे लिखा। इसमें बलराम से सम्बन्धित शाप की कहानियों के बहाने मिथिला के प्रमुख तीर्थ-स्थलों का वर्णन है।)
२. पुरुषपरीक्षा (मैथिली अकादमी, पटना से प्रकाशित)
३. लिखनावली
४. विभागसार (मैथिली अकादमी, पटना तथा विद्यापति-संस्कृत-ग्रन्थावली, भाग-१ के रूप में कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा से प्रकाशित)
५. शैवसर्वस्वसार
६. शैवसर्वस्वसार-प्रमाणभूत पुराण-संग्रह (विद्यापति-संस्कृत-ग्रन्थावली, भाग-२ के रूप में कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा से प्रकाशित)
७. दानवाक्यावली
८. गंगावाक्यावली
९. दुर्गाभक्तितरंगिणी (कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा से प्रकाशित)
१०. गयापत्तलक
११. वर्षकृत्य
१२. मणिमञ्जरी नाटक (मैथिली अकादमी, पटना से प्रकाशित)
१३. गोरक्षविजय नाटक (कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा से प्रकाशित ‘मिथिला परम्परागत नाटक-संग्रह’ में संकलित।)

(ख) अवहट्ठ में :

१. कीर्तिलता (मूल, संस्कृत छाया तथा हिन्दी अनुवाद सहित बिहार राष्ट्रभाषा परिषद, पटना से प्रकाशित)
२. कीर्तिपताका (मूल, संस्कृत छाया तथा हिन्दी अनुवाद सहित नाग प्रकाशन, दिल्ली से प्रकाशित)
इसके अतिरिक्त शिवसिंह के राज्यारोहण-वर्णन एवं युद्ध-वर्णन से सम्बन्धित कुछ अवहट्ठ-पद भी उपलब्ध हैं।

(ग) मैथिली में :

१. पदावली (मूल पाठ, पाठ-भेद, हिन्दी अनुवाद एवं पाद-टिप्पणियों से युक्त विस्तृत संस्करण विद्यापति पदावली नाम से तीन खण्डों में बिहार राष्ट्रभाषा परिषद, पटना से प्रकाशित)

रुसि चलली भवानी तेजि महेस
कर धय कार्तिक कोर गनेस

तोहे गउरी जनु नैहर जाह
त्रिशुल बघम्बर बेचि बरु खाह

त्रिशुल बघम्बर रहओ बरपाय
हमे दुःख काटब नैहर जाए

देखि अयलहुं गउरी, नैहर तोर
सब कां पहिरन बाकल डोर

जनु उकटी सिव, नैहर मोर
नाँगट सओं भल बाकल-डोर

भनइ विद्यापति सुनिअ महेस
नीलकंठ भए हरिअ कलेश

विशेष…

विद्यापति के समय की भाषा, प्राकृत – देर से व्युत्पन्न अवहट्ट, पूर्वी भाषाओं जैसे मैथिली और भोजपुरी के शुरुआती संस्करणों में परिवर्तित होना शुरू हो गया था। इस प्रकार, इन भाषाओं को बनाने पर विद्यापति के प्रभाव को “इटली में दांते और इंग्लैंड में चासर के समान” माना जाता है। उन्हें “बंगाली साहित्य का जनक” कहा है।

विद्यापति भारतीय साहित्य की ‘शृंगार-परम्परा’ के साथ-साथ ‘भक्ति-परम्परा’ के प्रमुख स्तंभों मे से एक और मैथिली के सर्वोपरि कवि के रूप में जाने जाते हैं। इनके काव्यों में मध्यकालीन मैथिली भाषा के स्वरूप का दर्शन किया जा सकता है। इन्हें वैष्णव, शैव और शाक्त भक्ति के सेतु के रूप में भी स्वीकार किया गया है। मिथिला के लोगों को ‘देसिल बयना सब जन मिट्ठा’ का सूत्र दे कर इन्होंने उत्तरी-बिहार में लोकभाषा की जनचेतना को जीवित करने का महान् प्रयास किया है।

मिथिलांचल के लोकव्यवहार में प्रयोग किये जानेवाले गीतों में आज भी विद्यापति की शृंगार और भक्ति-रस में पगी रचनाएँ जीवित हैं। पदावली और कीर्तिलता इनकी अमर रचनाएँ हैं।

About Author

Leave a Reply