July 22, 2024

Exif_JPEG_420

 

एक अर्ध एहसास ऐसा की
जो ना बना हों किसी से
उस एहसास की तालीम
ना मिली हो खुशी से

क्षड़िक सफलता की खुशी
उसमें मिलती है बड़ी मुद्दत से

एक दर की रीदायेतीरगी
मुतमइन हुए हैं मेरे महल से

खुद की बादशाहत मुअत्तल
ख्वाबगाहो में कहाँ
जो सिद्धत है इन घासो से

कैफ बरदोस आसमा को ना देख
कहीं कुचल ना जाए
उसके बादलों से

एक अर्ध एहसास ऐसा की
जो ना बना हो किसी से
उस एहसास की तालीम पाई
मैने खाबेकायनात से

अश्विनी राय ‘अरूण’

About Author

Leave a Reply