July 22, 2024

‘आज मानव समाज अपने पतन के लिए खुद जिम्‍मेदार है। आज वह खुलकर हँस नहीं सकता। हँसने के लिए भी ‘लाफिंग क्लब’ का सहारा लेना पड़ता है। शुद्ध हवा के लिए ऑक्सीजन पार्लर जाना पड़ता है। बंद बोतल का पानी पीना पड़ता है। इंस्टेंट फूड़ खाना पड़ता है। खेलने के लिए, एक-दूसरे से बात करने के लिए भी वक्‍त की कमी है।’ यह मैं नहीं, श्रीलाल शुक्ल जी ने अपने साहित्य के माध्यम से समसामयिक स्थितियों पर करारी चोट की है। आज हम श्रीलाल शुक्ल के साहित्य और उनके निजी जीवन के संघर्ष और उनके सामाजिक सरोकारों के बारे विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे…

श्रीलाल शुक्ल का जन्म ३१ दिसंबर, १९२५ को लखनऊ जनपद अंतर्गत अतरौली नामक गाँव में हुआ था। उन्होंने वर्ष १९४७ में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक परीक्षा पास कर वर्ष १९४९ में राज्य सिविल सेवा से नौकरी शुरू की। वर्ष १९८३ में भारतीय प्रशासनिक सेवा से निवृत्त हुए। अगर साहित्य से सरोकार की बात की जाए तो उनका विधिवत लेखन वर्ष १९५४ से ही हिंदी गद्य का एक गौरवशाली अध्याय आकार लेने लगा था।

रचना संसार…

(क) प्रसिद्ध रचनाएँ : सूनी घाट का सूरज, अज्ञातवास, राग दरबारी, आदमी का ज़हर, सीमाएँ टूटती हैं, मकान, पहला पड़ाव, विश्रामपुर का संत, बब्बरसिंह और उसके साथी, राग विराग, यह घर मेरी नहीं, सुरक्षा और अन्य कहानियाँ, इस उम्र में, दस प्रतिनिधि कहानियाँ।

(ख) प्रसिद्ध व्यंग्य रचनाएँ : अंगद का पाँव, यहाँ से वहाँ, मेरी श्रेष्‍ठ व्यंग्य रचनाएँ, उमरावनगर में कुछ दिन, कुछ ज़मीन में कुछ हवा में, आओ बैठ लें कुछ देरे, अगली शताब्दी का शहर, जहालत के पचास साल, खबरों की जुगाली।

(ग) आलोचना : अज्ञेय · कुछ रंग और कुछ राग।

(घ) विनिबंध : भगवतीचरण वर्मा, अमृतलाल नागर।

(ड·) उपन्यास : सूनी घाटी का सूरज, अज्ञातवास, रागदरबारी, आदमी का ज़हर, सीमाएँ टूटती हैं, मकान, पहला पड़ाव, विश्रामपुर का सन्त, अंगद का पाँव, यहाँ से वहाँ, उमरावनगर में कुछ दिन।

(च) कहानी संग्रह : यह घर मेरा नहीं है, सुरक्षा तथा अन्य कहानियां, इस उम्र में।

(छ) व्यंग्य संग्रह : अंगद का पांव, यहां से वहां, मेरी श्रेष्ठ व्यंग्य रचनायें, उमरावनगर में कुछ दिन, कुछ जमीन पर कुछ हवा में, आओ बैठ लें कुछ देर।

(ज) बाल साहित्य : बढबर सिंह और उसके साथी।

भाषा शैली…

उन्होंने शिवपालगंज के रूप में अपनी अद्भुत भाषा शैली, मिथकीय शिल्प और देशज मुहावरों से गढ़ा था। त्रासदियों और विडंबनाओं के इसी साम्य ने ‘राग दरबारी’ को महान् कृति बनाया, तो इस कृति ने श्रीलाल शुक्ल को महान् लेखक। राग दरबारी व्यंग्य है या उपन्यास यह कह पाना बड़ा मुश्किल है, मगर निश्चित ही यह एक श्रेष्ठ रचना है, जिसकी गवाही करोड़ों पाठकों ने की है और कर रहे हैं। ‘विश्रामपुर का संत’, ‘सूनी घाटी का सूरज’ और ‘यह मेरा घर नहीं’ जैसी कृतियाँ साहित्यिक कसौटियों में खरी साबित हुई हैं। बल्कि ‘विश्रामपुर का संत’ को स्वतंत्र भारत में सत्ता के खेल की सशक्त अभिव्यक्ति तक कहा गया था। राग दरबारी को इतने वर्षों बाद भी पढ़ते हुए उसके पात्र हमारे आसपास नजर आते हैं। शुक्लजी ने जब इसे लिखा था, तब एक तरह की हताशा चारों तरफ़ नजर आ रही थी। यह मोहभंग का दौर था। ऐसे निराशा भरे महौल में उन्होंने समाज की विसंगतियों को चुटीली शैली में सामने लाया था। वह श्रेष्ठ रचनाकार के साथ ही एक संवेदनशील और विनम्र इंसान भी थे।

ग्रामीण परिवेश…

श्रीलाल शुक्ल की रचनाओं का एक बड़ा हिस्सा गाँव के जीवन से संबंध रखता है। ग्रामीण जीवन के व्यापक अनुभव और निरंतर परिवर्तित होते परिदृश्‍य को उन्होंने बहुत गहराई से विश्‍लेषित किया है। यह भी कहा जा सकता है कि श्रीलाल शुक्ल ने जड़ों तक जाकर व्यापक रूप से समाज की छान बीन कर, उसकी नब्ज को पकड़ा है। इसीलिए यह ग्रामीण संसार उनके साहित्य में देखने को मिला है। उनके साहित्य की मूल पृष्‍ठभूमि ग्राम समाज है परंतु नगरीय जीवन की भी सभी छवियाँ उसमें देखने को मिलती हैं। श्रीलाल शुक्ल ने साहित्य और जीवन के प्रति अपनी एक सहज धारणा का उल्लेख करते हुए कहा है, ‘कथालेखन में मैं जीवन के कुछ मूलभूत नैतिक मूल्यों से प्रतिबद्ध होते हुए भी यथार्थ के प्रति बहुत आकृष्‍ट हूँ। पर यथार्थ की यह धारणा इकहरी नहीं है, वह बहुस्तरीय है और उसके सभी स्तर – आध्यात्मिक, आभ्यंतरिक, भौतिक आदि जटिल रूप से अंतर्गुम्फित हैं। उनकी समग्र रूप में पहचान और अनुभूति कहीं-कहीं रचना को जटिल भले ही बनाए, पर उस समग्रता की पकड़ ही रचना को श्रेष्‍ठता देती है। जैसे मनुष्‍य एक साथ कई स्तरों पर जीता है, वैंसे ही इस समग्रता की पहचान रचना को भी बहुस्तरीयता देती है।’

सामाजिक व्यंग्य…

श्रीलाल शुक्ल की सूक्ष्म और पैनी दृष्‍टि व्यवस्था की छोटी-से-छोटी विकृति को भी सहज ही देख लेती है, परख लेती है। उन्होंने अपने लेखन को सिर्फ राजनीति पर ही केंद्रित नहीं होने दिया। शिक्षा के क्षेत्र की दुर्दशा पर भी उन्होंने व्यंग्य कसा। वर्ष १९६३ में प्रकाशित उनकी पहली रचना ‘धर्मयुग’ शिक्षा के क्षेत्र में व्याप्‍त विसंगतियों पर आधारित है। व्यंग्य संग्रह ‘अंगद का पाँव’ और उपन्यास ‘राग दरबारी’ में श्रीलाल शुक्ल ने इसे विस्तार दिया है।

शिक्षा व्यवस्था पर व्यंग्य…

देश के अनेक सरकारी स्कूलों की स्थिति दयनीय है। उनके पास अच्छा भवन तक नहीं है। कहीं कहीं तो तंबुओं में कक्षाएँ चलाती हैं, अर्थात न्यूतम सुविधाओं का भी अभाव है। श्रीलाल शुक्ल इस पर टिप्पणी करते हुए कहते हैं, “यही हाल ‘राग दरबारी’ के छंगामल विद्‍यालय इंटरमीडियेट कॉलेज का भी है, जहाँ से इंटरमीडियेट पास करने वाले लड़के सिर्फ इमारत के आधार पर कह सकते हैं, सैनिटरी फिटिंग किस चिड़िया का नाम है। हमने विलायती तालीम तक देशी परंपरा में पाई है और इसीलिए हमें देखो, हम आज भी उतने ही प्राकृत हैं, हमारे इतना पढ़ लेने पर भी हमारा पेशाब पेड़ के तने पर ही उतरता है।” विडंबना यह है कि आज कल अध्यापक भी अध्यापन के अलावा सब कुछ करते हैं। ‘राग दरबारी’ के मास्टर मोतीराम की तरह वे कक्षा में पढ़ाते कम हैं और ज़्यादा समय अपनी आटे की चक्‍की को समर्पित करते हैं। ज़्यादातर शिक्षक मोतीराम ही हैं, नाम भले ही कुछ भी हो। ट्‍यूशन लेते हैं, दुकान चलाते हैं और तरह तरह के निजी धंधे करते हैं। छात्रों को देने के लिए उनके पास समय कहाँ बचता है?

यात्राएँ…

ज्ञानपीठ पुरस्कार और पद्म भूषण से सम्मानित तथा ‘राग दरबारी’ जैसा कालजयी व्यंग्य उपन्यास लिखने वाले मशहूर व्यंग्यकार श्रीलाल शुक्ल जी ने लेखक के रुप में ब्रिटेन, जर्मनी, पोलैंड, सूरीनाम, चीन, यूगोस्लाविया जैसे देशों की यात्रा कर भारत का प्रतिनिधित्व किया था, यात्राओं के शौकीन शुक्ल जी २८ अक्तूबर, २०११ को ८६ वर्ष की उम्र में अनंत की यात्रा पर निकल गए।

व्यक्तित्व…

श्रीलाल शुक्ल का व्यक्तित्व अपनी मिसाल आप था। सहज लेकिन सतर्क, विनोदी लेकिन विद्वान, अनुशासनप्रिय लेकिन अराजक। श्रीलाल शुक्ल अंग्रेज़ी, उर्दू, संस्कृत और हिन्दी भाषा के विद्वान थे। श्रीलाल शुक्ल जी संगीत के शास्त्रीय और सुगम दोनों पक्षों के रसिक-मर्मज्ञ थे। ‘कथाक्रम’ समारोह समिति के वह अध्यक्ष रहे। श्रीलाल शुक्ल जी ने ग़रीबी झेली, संघर्ष किया, मगर उसके विलाप से लेखन को नहीं भरा। उन्हें नई पीढ़ी भी सबसे ज़्यादा पढ़ती है। वे नई पीढ़ी को सबसे अधिक समझने और पढ़ने वाले वरिष्ठ रचनाकारों में से एक रहे। न पढ़ने और लिखने के लिए लोग सैद्धांतिकी बनाते हैं। श्रीलाल जी का लिखना और पढ़ना रुका तो स्वास्थ्य के गंभीर कारणों के चलते। श्रीलाल शुक्ल का व्यक्तित्व बड़ा सहज था। वह हमेशा मुस्कुराकर सबका स्वागत करते थे। लेकिन अपनी बात बिना लाग-लपेट के कहते थे। व्यक्तित्व की इसी ख़ूबी के चलते उन्होंने सरकारी सेवा में रहते हुए भी व्यवस्था पर करारी चोट करने वाली राग दरबारी जैसी रचना हिंदी साहित्य को दी।

About Author

Leave a Reply